Saturday, December 6, 2008

मेरी उड़ीसा यात्रा : कुछ झलकियाँ नंदन कानन से.... Snapshots from Nandan Kanan

नंदन कानन (Nandan Kanan) यानि उल्लास से भरा एक वन। नंदन कानन का जैविक उद्यान भुवनेश्वर से करीब बीस किमी दूरी पर है। 1960 में स्थापित ये उद्यान सफेद बाघों (White Tigers) के लिए तो मशहूर है ही साथ ही यहाँ घड़ियाल प्रजनन केंद्र (Gharial Breeding Centre) भी है।


नंदन कानन में आप टाइगर सफॉरी (Tiger Safari) और नेचर ट्रेल (Nature Trail) का भी आनंद ले सकते हैं। इतना ही नहीं चंडक के जंगलों के विस्तार में बसे इस वन को आप देखना तो चाहते हों पर ज्यादा चलना फिरना आपके लिए कष्टकारी हो तो यहाँ के रोप वे (Rope Way) का इस्तेमाल करें।

हमारे पास नंदन कानन में व्यतीत करने के लिए तीन घंटे का ही समय था जो कि इसे पूरी तरह देखने के लिए अपर्याप्त है। इसलिए बिना ज्यादा समय नष्ट किए हम पहले सफेद बाघ के बाड़े की ओर ही चल पड़े। नंदन कानन में आज ३० से ऊपर सफेद बाघ हैं जिनका रूप आप को सहज ही आकर्षित करता है


जहाँ बाघ अपनी गुर्राहट से जंगल की शांति में खलल डाल रहे थे वहीं ये जनाब घास के बीचों बीच सुस्ताते दिखाई दिए

फिर रोपवे की ओर बढ़े तो ये हाथी मिल कर अभिवादन करने लगे।

और जिन विदेशी घुमंतु पक्षियों (Migratory Birds) की तालाश हम चिलका में कर रहे थे वो आखिरकार यहाँ देखने को मिलीं

रोपवे से जंगल की विशालता तो दिखती है पर इतनी ऊपर से आप उसे महसूस नहीं कर पाते जैसा कि नेचर ट्रेल में हमने पेरियार में किया था। रोप वे (Rope Way) से दिखती ये सहमी शांत सी झील

13 comments:

  1. नन्दन कानन में एक बार जंगल के बाघ और कानन की बाघिन में इश्क हो गया था , करीब तीस साल पहले की बात है।बाहर वाले ने भीतर छलांग लगाई थी। आपने वह किस्सा सुना? ओड़िशा मेरा ननिहाल है इसलिए बचपन में कटक से काठजोड़ी की रेत पार कर साईकिल से पहुँच जाते थे।

    ReplyDelete
  2. सुंदर विवरण. हम इससे वंचित ही रहे. आभार.

    ReplyDelete
  3. वाकई यह बहुत सुंदर है .इसको पढ़ कर सब याद आ गया

    ReplyDelete
  4. आप वाकई बहुत लकी है.. सोच रहा हू मैं कब यहा जा पाऊँगा

    ReplyDelete
  5. सच में सुंदर जगह का सुंदर चित्रण !

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुंदर , फ़ोटो भी सुंदर लगी, आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. वाह, सुन्दर फोटू।

    पर बाड़ आदि लगी दिखाई दी (जैसे बाघ के फोटू में)। तो क्या नंदन कानन चिड़ियाघर है? और अब तक मैं सोचा करता था कि वाईल्ड लाईफ़ सैंक्चुअरी है!! :)

    ReplyDelete
  8. I was reminded of the chapter on Nandankanan which I studied during the school days. I am yet to visit these parts. Nice informative post and I like the way you have compared the view with that of Periyar's.

    ReplyDelete
  9. Manish ji apka blog bahut hi rochak hai. beech mai kuchh samay mujhese miss ho gaya tha per ab maine link apne blog mai laga liya hai isliye miss nahi hoga....

    ReplyDelete
  10. Ankit AgrawalSeptember 03, 2010

    ,,So Wonderful,,,
    Yeh pad kr purani yyade tja ho gayi

    ReplyDelete
  11. अपनी यात्रा के समय हम लोग भी गए थे गाइड ने खूब चर्चे बताये थे यहाँ के जानवरों के

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ यहाँ गए तो अब लगभग एक दशक हो गया।

      Delete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails