Monday, May 4, 2009

मेरे यात्रा चिट्ठे मुसाफ़िर हूँ यारों (Musafir Hoon Yaaron..) ने पूरा किया अपना पहला साल

".....जिंदगी एक यात्रा है और हम सभी इसके मुसाफ़िर हैं। पर कभी-कभी इस रोजमर्रा की राह से अलग हटने को जी चाहता है। भटकने को जी चाहता है और हम निकल पड़ते हैं एक अलग से सफ़र पर अलग सी दुनिया में। जब जब मैं किसी नई जगह के लिए निकलता हूँ मुझमें अंदर तक एक नई उर्जा समा जाती है। मुझे आज तक कुल मिलाकर अपना हर सफ़र, हर जगह कुछ विशिष्ट सी लगी है। इसी विशिष्टता को मैं अपने यात्रा वृत्तांतों में शामिल करने की कोशिश करता हूँ।..."

आज से करीब एक साल पहले इन्हीं पंक्तियों के साथ ये सफ़र शुरु किया था और एक शाम मेरे नाम की अपनी प्रतिबद्धताओं के बावज़ूद पिछले साल 42 पोस्टस आपके सामने ला सका।

हिंदी में एक विशुद्ध ट्रैवेल ब्लॉग की संकल्पना के साथ किया गया ये सालाना सफ़र अपने उद्देश्य में कितना सफल रहा है ये तो आप ही बता पाएँगे। पर जैसा कि मैंने पहले भी कहा है कि यात्रा करना मुझे व्यक्तिगत तौर पर बेहद आनंदित करता है और अपने लेखन के माध्यम से इस आनंद को आप तक पहुँचाने की कोशिश करता हूँ।

मुसाफिर हूँ यारों पर इस साल भी मेरी कोशिश यही रहेगी कि कम से कम हफ्ते में एक बार इस चिट्ठे पर आपके सामने कुछ नया ला सकूँ। भारत की खूबसूरती को चित्रों के द्वारा आप तक पहुंचाने के लिए एक नया स्तंभ भी शुरु करने का इरादा है। पिछले साल अंग्रेजी के सामूहिक चिट्ठों पर हिंदी में लिखने का आमंत्रण भी मिला था। कुछ ही दिन पहले घुमक्कड़ पर इसकी शुरुवात की थी जिसे इस साल भी वक़्त मिलने पर जारी रखूँगा।

आशा है आप सब के सहयोग से ये सफ़र यूँ ही चलता रहेगा तो चलते चलते सुनिए मेरी आवाज़ में फिल्म परिचय का ये गीत जो मुझे हमेशा से बहुत प्यारा लगा है और जिसकी वज़ह से मुझे मैंने अपने चिट्ठे का ये नाम दिया है।



Get this widget Track details eSnips Social DNA

18 comments:

  1. बधाई इस सुन्दर सफ़र नामे की ..आपके लिखे के साथ साथ हमने कई जगह आपके साथ यात्रा की है ..आप यूँ ही घूमते रहे लिखते रहे ..आपके लिखे यात्रा विवरण से उस जगह के बारे में पूरी जानकारी भी मिल जाती है .मुझे यह आपका ब्लॉग बेहद पसंद है ...गाना बेहद सुन्दर है यह आपकी आवाज़ में और भी अच्छा लगा ..शुक्रिया बधाई एक बार फिर से

    ReplyDelete
  2. मुबारक हो मनीष । बेहतरीन काम किया है आपने इस चिट्ठे में । मुसाफिर इसी तरह तफरीह करे । शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  3. पहले तो वर्ष भर जो अद्भुत यात्रायें आपने करवाईं उनके लिए तहे दिल से शुक्रिया...दूसरे ब्लॉग की वर्ष गाँठ की ढेरों बधईयाँ...इस साल भी आप के साथ यात्रा करेंगे क्यूँ की उसका आनंद ही कुछ और है...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  5. पहले सालगि‍रह पर आपको हार्दि‍क बधाई, आप और भी संजीदगी से लेखन करते रहें, शुभकामनाऍं।

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत बधाई हमारे पसंदीदा चिट्ठे के चिट्ठाकार को इस शानदार एक वर्ष को पूरा करने के लिए..मुसाफिर हो..ऐसे ही बरसों चलते रहो हमें साथ लिए-यही शुभकामनाऐं-प्रथम वर्षगांठ पर.

    ReplyDelete
  7. आपके चिट्ठे की वर्ष गाँठ पर हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. आगे भी यह सफ़र जारी रहे ऐसी कामना है ..बहुत बधाई इस चिठ्ठे के एक साल पूरा करने की

    ReplyDelete
  9. Many more happy returns of the day...

    happy birthday...

    ReplyDelete
  10. DITTO! VINEETA JI KE HI SHABD UDHAR LENA CHAHOONGA. CONGRATS!

    ReplyDelete
  11. बधाई ! पूरी तरह सफल रहा आपका प्रयास. नए स्तम्भ की भी प्रतीक्षा रहेगी.

    ReplyDelete
  12. चिट्ठे की वर्ष गाँठ पर हार्दिक शुभकामनायें |
    बस चिट्ठे को यही कहना चाहूंगी .... तुम जियो हजारों साल और साल के पोस्ट हों पचास हज़ार |

    वैसे बड़ा मुश्किल काम है अगर यह सच हो गया तो | :-)

    ReplyDelete
  13. बहुत-बहुत बधाई हो।

    ReplyDelete
  14. सैर जारी रहे , मित्र । सप्रेम

    ReplyDelete
  15. बधाई, सफर चलता ही रहे।

    ReplyDelete
  16. आप सब की शुभकामनाओं के लिए ढ़ेर सारा आभार !

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails