Monday, June 28, 2010

आइए देखें मानसूनी बादलों के बीच से पुणे शहर का एक परिदृश्य..

इधर पिछले हफ्ते पुणे जाना हुआ। जाते वक्त मेरे विमान के पुणे पहुँचने का समय आधी रात में था। इस लिए आसमान से पुणे की जगमगाती आभा तो दिखी पर उसके पीछे का शहर टिमटिमाते कुंकुमों की रोशनी में छुपा ही रह गया। अगला दिन एक सेमिनार में शिरकत करने में बीता। चाय पीने के लिए जब पहला विराम हुआ तो वहाँ से सामने ही पुणे का मनोरम सा दृश्य नज़र आ रहा था।

पार्श्व में पश्चिमी घाट की पहाड़ियाँ और उनके आगे फैला हुआ शहर अभी तक हरियाली को यहाँ वहाँ अपने में समेटे हुए है। बाहर मानसूनी बादल ठंडी हवाओं की सेना ले कर पूरे शहर का मुस्तैदी से मुआयना कर रहे थे।

विमान से दिल्ली लौटते वक्त भारत के इस आठवें सबसे बड़े शहर पर उन्हीं मानसूनी बादलों का साया था और खिड़की के बाहर का दृश्य बड़ा ही मनमोहक लग रहा था। सोचा आपके भी क्यूँ ना इस छटा के दर्शन करवाता चलूँ..



डर यही है कि बड़ी बड़ी इमारतों के बीच इन खूबसूरत हरे भरे हिस्सों का आकार छोटा होते होते खत्म ना हो जाए जैसा कि दिल्ली में हुआ है। नई दिल्ली और दिल्ली रिज का इलाका छोड़ दें तो ऊपर से दिल्ली कंक्रीट के जंगलों से भरी बेदिल दिल्ली की तरह ही लगती है। खैर दिल्ली के बारे में बाद में बात करते हैं।

समुद्र तल से 560 मीटर ऊंचाई पर बसे इस शहर के बीचों बीच मुला व मुठा नदियाँ का प्रवाह होता है। (नीचे चित्र में देखें।) पर वहाँ के समाचार पत्रों में पढ़ा कि वहाँ के उद्योग प्रदूषित सीवेज का एक बड़ा हिस्सा इन नदियों में छोड़ रहे हैं। अगर पुणेवासियों ने मिलकर इसके खिलाफ़ प्रयास नहीं किए तो वो अपनी इन प्राकृतिक धरोहरों का वही हाल होता देखेंगे जो दिल्ली में यमुना का हुआ है।



पुणे की इस हरियाली का रसास्वादन कर ही रहे थे कि बादलों के काफ़िले ने हमारे विमान को घेर लिया।
एक घंटे बाद जब विमान से फिर नीचे के दृश्य दिखने लगे तो परिदृश्य एकदम भिन्न था। दिल्ली के पास जो पहुँच गए थे। कैसी दिखी ऊपर से आपकी दिल्ली ये जानने के लिए इंतज़ार कीजिए अगली पोस्ट का !

Wednesday, June 9, 2010

मणिपुर की लोकटक झील,गोल घेरों वाली तैरती फुमडियाँ और संगाई हिरण !

जी हाँ पिछला सवाल जिस झील के बारे में था उसका नाम है लोकटक झील। लोकटक झील भारत के उत्तरपूर्व की सबसे बड़ी मीठेपानी की झील है। और एक खास बात ये कि इस झील को विश्व की एक 'तैरती' झील का तमगा प्राप्त है। आप सोच रहे होंगे कोई झील भला कैसे तैर सकती है? प्रश्न सौ फीसदी वाज़िब है जनाब।

चित्र साभार
दरअसल इस झील में घनी जलीय घास के बड़े बड़े हिस्से तैरते रहते हैं जिन्हें फुमडी के नाम से जाना जाता है। ये तैरती वनस्पति ही तैरती झील के नामाकरण के लिए जिम्मेदार है। ये हिस्से इतने बड़े होते हैं कि इस झील में बसने वाले मछुआरे उसमें अपनी झोपड़ी बना कर रहते हैं। इन फुमडियों को बीच से काट कर मछुआरों द्वारा गोल घेरे बनाए जाते हैं ताकि मछलियाँ इन गोल घेरों के बीच में फँस सकें। तो ये था इन गोल घेरों का रहस्य !

चित्र साभार

वैसे अगर मणिपुरी भाषा के आधार पर लोकटक की व्याख्या की जाए तो लोक शब्द का मतलब होता है बहती धारा और टक का मतलब अंतिम सिरा। पर इस बहती धारा तक आप पहुँचेगे कैसे? इस झील तक पहुँचने के लिए सबसे अच्छा रास्ता है, पहले हवाई जहाज से मणिपुर की राजधानी इंफाल पहुँचना और फिर वहाँ से तीस चालिस किमी तक का सड़क मार्ग तय कर लोकटक झील तक पहुँचना। वहीं यहाँ का निकटतम रेलवे स्टेशन दीमापुर है, जो इस जगह से करीब 230 किमी दूर है। यहाँ पर्यटकों के लिए एक द्वीप बनाया गया है जिसे सेंड्रा द्वीप के नाम से जाना जाता है। पर अगर मणिपुर की जीवनधारा मानी जाने वाली लोकटक झील के सौंदर्य को आप सही अर्थों में महसूस करना चाहते हैं तो आपको मछुआरों की छोटी नौका में बैठ कर इस झील का सफ़र करना पड़ेगा। मछुआरे इन झीलों के बीचो बीच अपना घर बनाकर रहते हैं ।चित्र साभार

इंफाल से ५३ किमी दूर और इस झील के किनारों पर स्थित कीबुल लामजाउ राष्ट्रीय उद्यान है। झील के ऊपर तैरता ये राष्ट्रीय उद्यान संगाई हिरण के लिए बेहद मशहूर है। संगाई को मणिपुर का नाचने वाला हिरण भी कहा जाता है। यहाँ के लोग कहते हैं कि ये हिरण दौड़ते दौड़ते रुककर फिर फर्राटा मारने के क्रम में एक नज़र मुड़ कर देखता अवश्य है इसलिए इसे संगाई यानि 'इंतज़ार करने वाला पशु' कहा जाता है। संगाई को एक समय लुप्त मान लिया गया था पर 1953 में ये मणिपुर में पुनः दिखाई पड़ा। पर इस लुप्तप्राय हिरण की संख्या में फिर से कमी होने की आशंका जताई जा रही है। पर्यावरण संतुलन में ह्रास से लोकटक झील में आजकल तैरती फुमडी की मात्रा इतनी बढ़ती जा रही है कि उसने झील के अस्तित्व पर ही प्रश्न चिन्ह लगा दिया है।

चित्र साभार

वैसे संगाई का फुमडी के विकास और विघटन की प्रक्रिया से कितना गहरा रिश्ता है ये जानना आपके लिए दिलचस्प होगा। गर्मी के दिनों में जब झील में पानी का स्तर कम हो जाता है तो फुमडी नीचे की ओर बैठ जाती है और ज़मीन से अपने विकास के लिए पोषक तत्त्वों को प्राप्त करती है। परिणामस्वरुप इन फुमडियों में तरह तरह की घासों और पौधों का जन्म होता हे जो हिरणों का प्रिय आहार होती हैं। बारिश के दिनों में जलस्तर ऊँचा होते ही ये फुमडी तैरने लगती हैं। पर जंगलों की कटाई, प्रदूषण, झील का तला ऊँचा होने की वज़ह से ये देखा जा रहा है कि फुमडी नीचे की और बैठने के बजाए सालों साल तैर रही हैं। नतीजा ये कि हिरणों को भोजन की कमी और बढ़ते जल स्तर के खतरे से एकसाथ जूझना पड़ रहा है। फिलहाल लोकटक विकास प्राधिकार ने इस झील के पुनरुद्धार की मुहिम शुरु की है जिसमें झील के तले की ड्रेजिंग और तैरती फुमडियों को हटाने पर फिलहाल कार्य चल रहा है।

पिछले साल NDTV ने अपने कार्यक्रम भारत के सात आश्चर्यों में लोकटक झील को भी शामिल किया था। तो आइए इस झील की सैर करते हें इस वीडिओ के साथ।



और अब आती है जवाबों की बारी। वैसे आप में से तीन लोगों ने इस झील के बारे में बिल्कुल सही बताया व फुमडी वनस्पति को भी पहचान लिया पर किसी ने गोल घेरों के रहस्य को नहीं समझाया। फिर भी इस जटिल प्रश्न के उत्तर के मुख्य अंश तक बिना किसी संकेत के सबसे पहले पहुँचने के लिए अल्पना वर्मा जी को हार्दिक बधाई। सीमा गुप्ता और अंतर सोहिल भी सही जवाब तक पहुँचे पर थोड़ी देर में। बाकी लोगों को दिमागी घोड़े दौड़ाने के लिए आभार।

Saturday, June 5, 2010

विश्व पर्यावरण दिवस : क्या आप एक जिम्मेदार पर्यटक हैं?

आज विश्व पर्यावरण दिवस है। जून में पर्यावरण दिवस को मनाना कम से कम भारतीय उप महाद्वीप के लोगों के दिल में ज्यादा संवेदना व कर्त्तव्य बोध जगाता है। ये वो वक्त होता है जब हम हर साल पहले से और बढ़ती गर्मी की मार झेल चुके होते हैं। पानी की बढ़ती किल्लत भयावह रूप से सामने आ जाती है। पहले लोग इन सब से निज़ात पाने के लिए पहाड़ों की ओर भागते थे। पर अब वहाँ का भी वातावरण बदल रहा है।

पहले घूमने घामने के लिए सबसे लोकप्रिय माने जाने वाले पर्यटन स्थल अब कंक्रीट के जंगल बन गए हैं। मसूरी और दार्जिलिंग इसके ज्वलंत उदाहरण है। लिहाज़ा प्रकृति प्रेमी घुमक्कड़ हर वर्ष नई नई जगहों की तलाश में रहते हैं जहाँ की प्राकृतिक सुंदरता अभी तक अक्षुण्ण बनी हुई है। अगर यही हाल रहा तो शायद प्रकृति को करीब से देखने का सुख हमारी भावी पीढ़ियों को रहेगा ही नहीं।

इसमें कोई शक नहीं कि पर्यटन से किसी स्थान विशेष के लोगों की आर्थिक स्थिति में सुधार आता है। पर ये सुधार जीवन पर्यन्त और आने वाली पीढ़ियों तक होना चाहिए। अगर हम अपने वातावरण से खिलवाड़ का उसका सीमा से ज्यादा दोहन करेंगे तो उस जगह की खूबसूरती कुछ दशकों में ही खत्म हो जाएगी। पर्यटक तो कोई दूसरी जगह चुन लेंगे पर वहाँ पर रहने वाले लोगों का क्या होगा, ये प्रश्न भी पर्यटन स्थलों के विकास से जुड़े हमारे नीति निर्माताओं को सोचना होगा।

पर एक पर्यटक की दृष्टि से हमारा भी कुछ दायित्व है जिसका निर्वहन हममें से अधिकांश जन नहीं ही करते हैं। 'इकोफ्रेंडली टूरिज्म' का जुमला बहुत सालों से उछाला गया है पर उस पर कितना अमल हुआ है ये हम और आप जानते ही हैं। मेरी समझ से अगर हम पर्यटन स्थलों पर जाते वक्त अपनी आवश्यक्ताओं को सीमित रखेंगे तो अपने आप प्रकृति का संरक्षण होगा। पर्यटन स्थल पर हमारे हमारे रहने और खान पान के तौर तरीके सीधे सीधे वहाँ के पर्यावरण को प्रभावित करते हैं। एसी कमरे, गर्म पानी की सुविधा, हर जगह अधिक से अधिक पैदल चलने के बजाए पेट्रोल डीजल वाहनों का प्रयोग ये सब प्रत्यक्ष या अप्रयत्क्ष रूप से हमारे पर्यावरण को प्रभावित करता है। घूमते घामते वक्त कुछ पानी और खाने का सामान तो ले जाना तो लाज़िमी है पर उसके इस्तेमाल के बाद प्लास्टिक की बोतलों और रैपरों को वहीं फेक देना कहाँ तक उचित है? आलम ये है कि पंद्रह हजार फीट की ऊँचाई पर जब आपको वनस्पति का एक क़तरा भी नहीं दिखाई देगा प्लास्टिक की बोतलें जरूर दिखाई दे जाएँगी।

वैसे तो ये बात वहाँ के लिए भी लागू है जहाँ हम और आप रहते हैं। अक्सर हम अपनी समस्याओं का सारा दोष सरकार पर मढ़ते हैं। पर प्रकृति संरक्षण पर जितनी जवाबदेही उनकी है उनसे कहीं ज्यादा हमारी है। चलते चलते आपको सुनाना चाहूँगा गुलज़ार का लिखा नग्मा जो पिछले साल उन्होंने के पर्यावरण बचाओ अभियान के लिए लिखा था। इस गित को आवाज़ दी थी शंकर महादेवन ने और इसे संगीतबद्ध किया था शंकर अहसान लॉय की तिकड़ी ने। गुलज़ार साहब ने बड़े साफ साफ लफ्ज़ों में कहना चाहा है कि जितना जरूरी इस संसार में हमारी आपकी उपस्थिति है उतनी ही आवश्यक्ता हमें अपने आस पास की प्रकृति की भी है..


हवाएँ पत्ते पानी पेड़ जंगल सब्ज सोना है
अगर तुम हो इतना ही जरूरी इनका होना है

हवाएँ मैली मत करना कि जब तुम साँस लोगे,
ये दम वापस नही आएगा जब तुम खाँस लोगे
उगाओ जिंदगी और याद रखो दिल को बोना है...
हवाएँ पत्ते पानी पेड़ जंगल सब्ज सोना है

पेड़ उगाओ छानो हवाएँ साफ़ करो
अपनी जमीं से इतना तो इन्साफ करो
उगाओ जिंदगी और याद रखो दिल को बोना है
हवाएँ पत्ते पानी पेड़ जंगल सब्ज सोना है

पेड़ पौधे हमारी जिंदगी के अभिन्न अंग है। इसलिए गुलज़ार कहते हैं कि उगाओ जिंदगी और याद रखो दिल को बोना है...

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails