Tuesday, July 12, 2011

विश्व की सबसे चर्चित हेयरपिन बेंड्स (Hairpin Bends) वाली घुमावदार सड़कें !

पिछले हफ्ते आपसे एक सवाल पूछा था पहाड़ पर बने एक सौ अस्सी डिग्री के घुमाव वाले रास्ते के बारे में। अंग्रेजी में ऍसे घुमावों को हेयरपिन बेंड (Hairpin Bend)  कहते हैं क्यूँकि इनका आकार महिलाओं के केश विन्यास में काम आने वाले हेयरपिन सरीखा  होता है। आज की इस प्रविष्टि में आपसे किए गए सवाल के बारे में तो बात होगी ही साथ ही आपको  ले चलेंगे संसार के सबसे मशहूर Hairpin Bends की सैर पर।
ऊँचे पर्वतीय रास्तों पर एक पहाड़ से दूसरे पहाड़ को लाँघने के लिए कई दर्रों से होकर गुजरना पड़ता है। अब अगर इन रास्तों की ढाल बढ़ा दी जाए तो भारी और मालवाहक वाहनों के घुमावों पर लुढ़कने की संभावना बढ़ जाती है। इस ढाल को सीमा के अंदर लाने में Hairpin Bends बड़े मददगार होते हैं। Hairpin Bends जहाँ एक ओर दुर्घटना की संभावनाओं को घटाते हैं वहीं दूसरी ओर इनके चलते रास्ते की लंबाई कई गुना बढ़ जाती है।
मनाली लेह रोड जिसे दुनिया के सबसे दुर्गम रास्तों में एक माना जाता है, में भी एक ऐसा ही हेयरपिन बेंड है। मनाली से केलोंग होते हुए जब पर्यटक हिमाचल की सीमा के पास पहुँचते हैं तो सरचू के पठारी मैदान आपका स्वागत करते हैं। सरचू से थोड़ा आगे जाने पर Tsarap नदी मिलती है। इस नदी को पार करते ही अचानक ही एकदम से चढ़ाई आ जाती है और मुसाफ़िरों का सामना होता है 21 चक्करों वाले इस हेयरपिन बेंड से ,जिसे गाटा लूप्स (Gata Loops) के नाम से जाना जाता है। सात किमी लंबे इस लूप के चक्कर काटने में साइकिल व बाइक सवारों के पसीने छूट जाते हैं। गाटा लूप्स को शुरुआत से अंत तक पूरा करते ही आप दो हजार फीट ऊपर आ जाते हैं और पांग की ओर निकल जाते हैं। गाटा लूप्स के ऊपर से तसरप नदी घाटी और  इन घुमावदार सर्पीली लकीरों को देखना कितना अविस्मरणीय अनुभव हो सकता है वो आप  कृष्णनेन्दु सरकार के खींचे हुए इस चित्र को देखकर ही समझ सकते हैं।

ये तो हुई गाटा लूप्स की बात। दक्षिण पूर्वी नार्वे में Lysebotn Road में भी 27 हेयरपिन बेंड हैं। गाटा लूप्स के विपरीत ये बेंड आपको नीचे और नीचे ले जाते हैं। पतली सी सड़क पर 34 किमी का ये सफर तब रोंगटे खड़ा कर देने वाला हो जाता है जब सामने से अचानक बस या लॉरी आपके सामने आ जाए। रोड के अंतिम सिरे पर की सुरंग तीन सौ साठ डिग्री का चक्कर लगा कर घाटी के निचले हिस्से में ला कर छोड़ देती है।

उत्तर पश्चिमी यूरोप से ले चलते हैं आपको मध्य यूरोप में जहाँ आल्पस पर्वत अपने अंदर ऐसे कई हेयरपिन बेंड समाहित किए हुए है। स्विस आल्पस (Swiss Alps) में ऐसी एक सड़क है जो ओबेरआल्प पास तक जाती है। जाड़े के दिनों में 2044 मीटर की ऊंचाई तक जाती ये सड़क बंद रहती है। पर गर्मियों की हरियाली में इसका नज़ारा देखते ही बनता है।


फ्रांस मे फैले आल्पस पर्वत में भी ऐसे घुमावों वाली कई सड़के हैं। 1244 मीटर की ऊँचाई चढ़ने के लिए  Col de Turini पर 34 किमी की यात्रा कर लोग 363 मीटर की ऊँचाई से 1607 मीटर तक पहुँच पाते हैं। मान्टेकार्लो कार रैली के लिए इसी सड़क का इस्तेमाल होता है। वहीं Col de Braus को दुनिया की सबसे आकर्षक सड़कों में एक माना जाता है। यहाँ के हेयरपिन घुमाव साइकिल दौड़ाकों के लिए  बड़ी चुनौती माने जाते हैं। एक नज़ारा आप भी देखिए



पर घुमावों की संख्या में इन सब को मात देता है इटालियन आल्पस का 'स्टेलविओ पास' (Stelvio Pass)। कुल मिलाकार साठ हेयरपिन घुमावों वाला ये दर्रा यूरोप में आल्पस पर्वत का सबसे ऊँचा पास है।  2758 मीटर ऊँचे इस दर्रे पर जाती सड़क को 1820-1825 ई में आस्ट्रियाई शासकों ने बनाया था। प्रथम विश्व युद्ध के पहले तक जब इटालवी सीमाओं का विस्तार नहीं हुआ था तब ये इलाका स्विस,आस्ट्रिया और इतालवी सीमाओं को एक दूसरे से अलग करता था । ये पहाड़ी दर्रे कई इतालवी और अस्ट्रियाई सेनाओं के आपसी संघर्ष के साक्षी रहे हैं। आज 'स्टेलविओ पास' अपनी दुरुहता की वज़ह से साहसी साइकिल, बाइक व मोटर चालकों के लिए सबसे बड़ी चुनौती की तरह है।


 पर हेयरपिन बेंड से सजी ये सड़कें सिर्फ यूरोप में हों ऐसा भी नहीं है। एशिया में भारत के आलावा चीन व जापान में भी ऐसी सड़कें हैं। पर उससे कहीं जबरदस्त दक्षिण अमेरिका के एंडीज पर्वत पर बनी एक सड़क है जो चिली और अर्जेंटीना को जोड़ती है। वैसे तो चिली व अर्जेंटीना के बीच के पाँच हजार मील की लंबी सीमा है और उसमें कई दर्रे हैं पर इन सबमें सबसे ज्यादा मशहूर  Los Caracoles यानि स्नेल पॉस है। अर्जेंटीना की तरफ ये सड़क एक आम पर्वतीय सड़क की तरह है जो 3,175 मीटर की ऊँचाई पर एक सुरंग में जा मिलती है। इस सुरंग का आधा भाग चिली व आधा अर्जेंटीना में पड़ता है। पर सुरंग से बाहर आते ही चिली के इलाके में ये सड़क तेजी से नीचे की ओर एक सीध में बने कई हेयरपिन बेंड्स के  रूप में उतरती है। ऊपर से देखने पर इस पर चलते ट्रक घोंघों की तरह खिसकते नज़र आते हैं इसीलिए इसे  Snail Pass भी कहा जाता है।


तो अब बताइए जनाब इन सड़कों में किस पर विचरण करने का इरादा है आपका...

17 comments:

  1. कमाल की पोस्ट...इतनी सारी जानकारी एक साथ...वो भी हेयर पिन बैंड्स पर...गज़ब...

    नीरज

    ReplyDelete
  2. फोटो देख कर ही चक्कर आ रहे है। वास्तविकता मे क्या होगा !

    वैसे पचमड़ी मे सतपुड़ा की घाटीयो मे फटफटीया चलायी है लेकिन इन फोटो की तुलना मे तो वो कुछ नही है।

    ReplyDelete
  3. क्या गजब की जानकारी दी है ,मनीषजी .फोतो देखकर तो मज़ा आ गया . हेयरपिन बेंडस के बारे मैन पहली बार इतनी जानकारी मिली .

    ReplyDelete
  4. Jut by looking at those roads I am getting motion sickness!

    ReplyDelete
  5. मनीष भाई
    फ़ोतूला टोप तो रह गया? उसे भी दिखाना था,

    ReplyDelete
  6. संदीप भाई फोतू ला यानि जलेबी बेंड हाँ वो भी एक शानदार बेंड है पर गाटा लूप्स उससे कहीं ज्यादा कठिन है। जहाँ जलेबी बेंड में 1100 मीटर की चढ़ाई 32 किमी में तय होती है वहीं गाटा लूप्स 6०० मीटर की चढ़ाई मात्र 7 किमी में निबटा देता है।

    ReplyDelete
  7. गजब !सोच रहा हूँ एक भी नहीं देख पाया आज तक :(

    ReplyDelete
  8. ग़ज़ब की जानकारी दी है आपने।

    ReplyDelete
  9. वाह बहुत ही गज़ब की जानकारी दी है……………आभार्।

    ReplyDelete
  10. yeh toh jabardast travelogue hai

    ReplyDelete
  11. भईया, जब कभी फोतूला या गाटा से निकलना होगा तो मैं तो आंखें बन्द कर लूंगा। ऐसे मोडों पर 180 डिग्री घूमते समय पूरा शरीर तो घूम जाता है जबकि अपना स्थिर दिमाग स्थिर ही रहता है, नतीजा? दिमाग खराब। दिमाग हैंग।

    ReplyDelete
  12. गजब,,, Excellent जानकारी… मजा आ गया… वाकई इन मोड़ों को हेयरपिन बैंड्स कहते हैं, मुझे पता नहीं था…

    ReplyDelete
  13. शुक्रिया आप सब का इस लेख को पसंद करने के लिए!

    ReplyDelete
  14. ऐसा ही केसकाल घाट भी है।
    चक्करदार रास्तों में चक्कर खाना पड़ ही जाता है।

    आभार

    ReplyDelete
  15. बहुत रोचक जानकारीयां हैं। दिलकश तस्वीरें।

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails