Thursday, April 26, 2012

माउंट आबू : आइए देखें गुरुशिखर का नैसर्गिक सौन्दर्य ...

सोलह नवंबर की सुबह बादलों से भरी थी। सुबह तरो ताज़ा होने के बाद हमारा पहला लक्ष्य गुरुशिखर था। माउंट आबू आने के पहले मैंने गुरुशिखर के बारे में खास सुन नहीं रखा था। पर जो मानचित्र मुझे स्थानीय पर्यटन केंद्र से मिला था उसमें देलवाड़ा मंदिर  के आगे गुरु शिखर की ओर जाती सड़क का उल्लेख अवश्य था। नक़्शे को ध्यान से देखने से स्पष्ट था कि अगर सबसे पहले हम माउंट आबू से पन्द्रह किमी दूर स्थित इस शिखर को देख लें तो वापस लौटते समय इसी रास्ते में पड़ने वाले ब्रह्माकुमारी शांति उद्यान (पीस पार्क) और देलवाड़ा मंदिर को देख सकते हैं। 

पिछला दिन और शाम हमने नक्की झील के आस पास के इलाके में गुजारी थी। सच कहूँ तो शहर का मुख्य हिस्सा आपको इस बात का अहसास नहीं करा पाता कि आप एक सुंदर से हिल स्टेशन में पधारे हैं। पर सुबह हम मुख्य मार्ग छोड़ कर जैसे ही शहर से चार पाँच किमी आगे बढ़े तब जाकर वो खूबसूरती दिखाई दी जिसकी उम्मीद हम पिछले दिन से ही लगाए बैठे थे। अरावली की छोटी छोटी पहाड़ियों के बीच पतली सी सड़क पर बढ़ती हमारी गाड़ी जब इस झील की बगल से गुजरी तो इसे देखकर मन प्रसन्न हो गया। चारों ओर से हरे भरे पेड़ों से घिरी इस झील का जल बिल्कुल शांत था। न पर्यटकों की भीड़ , ना नौकाओं की हलचल। ऐसा लगता था मानो इस हरियाली के बीच वो अपने आप में ही रमी हुई हो।

यहाँ के लोग इसे छोटी नक्की झील (Mini Nakki Lake) या ओरिया झील (Oriya Lake) भी  कहते हैं। ये प्राकृतिक झील नहीं है। दशकों पहले इस इलाके में लगातार आ रहे अकालों से निबटने के लिए यहाँ सरकार ने झील के लिए खुदाई शुरु करायी। मजदूरों को इस खुदाई के बदले निर्माण अवधि में रसद मुहैया कराई गयी। इस झील से थोड़ा आगे बढ़ने पर ओरिया का चेक पोस्ट आ जाता है। यहाँ से दो रास्ते अलग होते हैं एक दाहिनी ओर अचलगढ़ (Achalgarh) को चला जाता है।  

Monday, April 23, 2012

रंगीलो राजस्थान : मूली रे मूली तू क्यूँ हुई इतनी रंगीली ?

हमारा देश विविधता से भरा देश है। देश के एक कोने से दूसरे कोने में सफ़र करते वक़्त ना केवल लोगों की भाषा और पहनावे में फर्क आता है बल्कि वहाँ के पशु धन और शाक सब्जी भी विविधता लिए हुए होते हैं। उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में अगर अपनी गौ माता को देखें तो निरीह सी लगेंगी पर वहीं राजस्थान में इन गायों की कद काठी और नुकीले सींग दोनों जबरदस्त होते हैं। 

जो इस चिट्ठे के पुराने हमसफ़र हैं ‌उन्हें याद होगा कि मुन्नार की यात्रा में हमें कैसी बड़ी बड़ी हरी मिर्चें देखने को मिली थीं। जिस तरह राजस्थान में उदयपुर के ग्रामीण इलाकों में बच्चे शरीफा बेचते नज़र आए वही केरल के मुन्नार में हमें जगह जगह हरे पत्तों के साथ तुरंत तोड़े हुए ताजे गाजर बेचती महिलाएँ नज़र आयीं।

वहीं माउंट आबू में जब हम गुरुशिखर की यात्रा पर निकले तो बीच के नाके पर हमने  इस रंग रंगीली मूली को देखा और एक नज़र में ही हम सभी इस पर फि़दा हो गए। स्वाद भी जनाब अपने तरफ़ मिलने वाली सफेद मूली से कहीं मीठा 


वैसे राजस्थान के रेगस्तानी इलाके में एक बार फिर हमारा ऍसे ही एक रंगीन फल से सामना हुआ। उसका स्वाद हम ले पाए या नहीं वो किस्सा तो बाद में जल्द ही हाज़िर होता हूँ गुरुशिखर की आनंददायक यात्रा का विवरण लेकर..

 मुसाफिर हूँ यारों हिंदी का एक यात्रा ब्लॉग

 माउंट आबू से जुड़ी इस श्रृंखला की सारी कड़ियाँ

Tuesday, April 17, 2012

दास्तां नक्की झील की : आख़िर क्यूँ याद आए मुझे 'बलम रसिया' ?

पिछली पोस्ट में उदयपुर से चलते हुए हम जा पहुँचे थे माउंट आबू में। शाम का वक़्त था । नक्की झील हमारे सामने थी। एक रास्ता गाँधी घाट को जा रहा था जहाँ बोटिंग करने के लिए भारी भीड़ जुटी थी। नक्की झील कोई बहुत बड़ी झील नहीं है। हमें लगा कि जितना समय कतार में लगकर नौका की प्रतीक्षा में लगेगा उससे अच्छा वक़्त झील के किनारे किसी शांत सी जगह पर काटा जा सकता है। घाट से थोड़ी दूर छोटे छोटे दुकानदार लोक लुभावन  वस्तुओं के साथ पर्यटकों को आकर्षित कर रहे थे। हमने भी थोड़ी मोड़ी खरीददारी की और पास ही पानी में बने जहाजनुमा रेस्टोरेन्ट में चल पड़े। ये भोजनालय झील के दक्षिण पूर्वी किनारे पर स्थित है।


दरअसल रेस्टोरेंट उस वक़्त बिल्कुल खाली था। सारी भीड़ नौका विहार का आनंद लेने में मशगूल थी। चूंकि भीड़ के आने का समय नहीं हुआ था इसलिए बैरे भी इधर उधर थे। पानी के समीप शांति से बैठने का ये अनुकूल अवसर था।

सरोवर रेस्टोरेन्ट के डेक से झील का रमणीक दृश्य दिख रहा था। झील की दूसरी ओर की पहाड़ियों के नीचे उठते श्वेत फ्व्वारे और उन फव्वारों के बीच  चलती भांति भांति आकारों से सुसज्जित छोटी बड़ी नावें। कुछ दिखने में शाही तो कुछ बेहद आम। नावों से थोड़ी दूर  झील का गश्त लगाती प्यारी प्यारी बत्तखों के ढेर सारे परिवार। वैसे देश की कई अन्य झीलों की तरह यहाँ की पहाड़ियों पर के जंगल घने नहीं हैं।

Monday, April 9, 2012

उदयपुर से माउंट आबू का सफ़र : कैसे बना आबू पर्वत ?

जब हमने अपनी राजस्थान यात्रा का कार्यक्रम बनाया था तो यही सोचा था कि यात्रा की शुरुआत माउंट आबू से करें और उसके बाद उदयपुर होते हुए जोधपुर की ओर बढ़ चलें। पर होटल की अनुपलब्धता की वज़ह से हमें शुरुआत उदयपुर से करनी पड़ी। उदयपुर में रहते हुए हमने चित्तौड़गढ़, कुंभलगढ़ और राणकपुर के मंदिरों को देख लिया। पर तीन रातें उदयपुर में बिताने के बाद भी ये मुगालता रह ही गया कि आज के उदयपुर को बाजारों, मोहल्लों, लोगोंके माध्यम से देखने व महसूस करने का मौका कम ही मिल पाया।

सज्जनगढ़ की ओर जाते वक़्त हम जरूर शहर के अंदर से निकले और सिटी पैलेस से नीचे उतरती सड़क पर बनी छोटी बड़ी दुकानों और बेतरतीब ट्राफिक से भी कई बार सामना हुआ। यहाँ के बाजार देखने का मौका ही नहीं मिला और रही खाने की जगहों की बात तो रात का खाना हमने हर दिन एक ही भोजनालय (जोधपुर रेस्ट्राँ) में किया क्यूँकि दिन भर मिर्च के चक्कर में आँसू बहाने वाले पुत्र को वहीं का भोजन रास आया था।

इस पूरी यात्रा में मेरे मन में उदयपुर और जैसलमेर को देखने का बड़ा रोमांच था और उदयपुर मुझे अपनी आशा के अनुरूप ही बेहद सुंदर लगा था। खासकर रात के समय जगमगाते उदयपुर की अद्भुत आभा को मैं कभी नहीं भूल पाऊँगा। अपने राजस्थान भ्रमण की चौथी सुबह जब हम उदयपुर को छोड़ रहे थे तो मन में यही भाव उठ रहे थे कि यहाँ दोबारा भी आना अच्छा लगेगा।


माउंट आबू से आने वाले यात्रियों से हमने वहाँ की नक्की झील और दिलवाड़ा मंदिर का जिक्र बारहा सुना था। इसके आलावा पिताजी को वहाँ के ब्रह्मा कुमारी के आध्यात्मिक संगठन के मुख्यालय में जाने की बड़ी उत्सुकता थी। सुबह के करीब दस बजे हमारा समूह उदयपुर छोड़ चला था। शीघ्र ही हम राष्ट्रीय राजमार्ग 27 ( NH 27) पर आ गए थे। चार लेनों वाले इस राजमार्ग पर आप आसानी से 80-90 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से गाड़ी दौड़ा सकते हैं। पर राजस्थान में ये बात आम है कि जितनी अच्छी सड़क होगी उतने ही ज्यादा नाके आएँगे। उदयपुर और माउंट आबू के बीच कम से कम पाँच छः बार टौल लेने देने की प्रक्रिया से गुजरना पड़ा। मन ही मन सोचता रहा कि दस, बीस पचास के पत्तों को लाइन में लग कर बार बार सरकाने की बजाए अगर एक या दो बार में ही एकमुश्त पैसे ले लिए जाएँ तो कितना अच्छा रहे। सफ़र में रुकावट भी कम और इतने टौल प्लाजा (Toll Plaza)  की जरूरत भी नहीं रहेगी तब तो।

ख़ैर मौसम साफ था और रास्ते में आबादी बहुत ही कम थी। अरावली की पहाड़ियाँ रह रह कर सड़क के कभी एक तो कभी दोनों तरफ़ आ रही थीं। पहाड़ को तोड़ कर बनाए गए रास्ते का यह दृश्य सफ़र के कई महिने बाद भी मन में अंकित रहा।



LinkWithin

Related Posts with Thumbnails