Friday, November 29, 2013

मेरी राजस्थान यात्रा : कैसा है जैसलमेर का थार मरुस्थल ? Thar Desert of Jaisalmer

जीवन में प्रकृति के जिस रूप को आप नहीं देख पाते उसे देखने की हसरत हमेशा रहती है। यही वज़ह है कि जो लोग दक्षिण भारत में रहते हैं उनके लिए हिमालय का प्रथम दर्शन दिव्य दर्शन से कम नहीं होता। वहीं उत्तर भारतीयों की यही दशा पहली बार समुद्र देखने पर होती है। पूर्वी भारत के जिस हिस्से में मैं रहता हूँ वहाँ से समुद्र ज्यादा दूर नहीं और गिरिराज हिमालय की चोटियाँ तो कश्मीर से अरुणाचल तक फैली ही हैं यानि जहाँ से चाहो वहाँ से देख लो। सो पहली बार बचपन में मैंने समुद्र पुरी में देखा और हिमालय के सबसे करीब से दर्शन नेपाल जाकर किए।

पर रेगिस्तान पिताजी हमें दिखा ना सके और मरूभूमि को पास से महसूस करने की ललक दिल में रह रह कर सर उठाती रही। इसीलिए जब राजस्थान यात्रा का कार्यक्रम बना तो राजस्थान के उत्तर पश्चिमी भाग में थार मरुस्थल ( Thar Desert ) के बीचो बीच बसा शहर जैसलमेर मेरी प्राथमिकता में पहले स्थान पर था। उदयपुर से अपनी राजस्थान यात्रा आरंभ करने के बाद हम चित्तौड़गढ़, कुंभलगढ़, माउंट आबूजोधपुर होते हुए जैसलमेर पहुँचे। 

जैसलमेर जोधपुर से तकरीबन तीन सौ किमी दूर है पर अच्छी सड़क और कम यातायात होने की वज़ह से ये दूरी  साढ़े चार घंटे में तय हो जाती है। सुबह साढ़े आठ बजे तक हम जोधपुर शहर से बाहर निकल चुके थे। सफ़र के दौरान ज्यादातर एक सीधी लकीर में चलती सड़क के दोनों ओर बबूल के पेड़ की दूर तक फैली पंक्तियाँ ही नज़र आती थीं। यदा कदा रास्ते में किसी गाँव की ओर जाती पगडंडी दिख जाती थी। थोड़ी ही दूरी तय करने के बाद हमें इस सूबे में जनसंख्या की विरलता समझ आ गयी। वैसे भी पानी को तरसती इस बलुई ज़मीन (जिस पर छोटी छोटी झाड़ियों और बबूल के पेड़ के आलावा कुछ और उगता नहीं दिखाई देता) पर आबादी हो भी तो कैसे ? 

प्रश्न ये उठता है कि इतनी कठोर जलवायु होने के बावज़ूद प्राचीन काल में ये शहर धन धान्य से परिपूर्ण कैसे हुआ? इस सवाल के जवाब तक पहुँचने के लिए हमें जैसलमेर के इतिहास में झाँकना होगा। रावल जैसल ने 1156 ई. में जैसलमेर किले की नींव रखी। उस ज़माने में जैसलमेर भारत से मध्य एशिया को जोड़ने वाले व्यापारिक मार्ग का अहम हिस्सा था। ऊँटों पर सामान से लदे लंबे लंबे कारवाँ जब इस शहर में ठहरते तो यहाँ के शासक उनसे कर की वसूली किया करते थे। जैसलमेर भाटी राजपूतों की सत्ता का मुख्य केंद्र हुआ करता था। भाटी शासकों ने व्यापार से धन तो कमाया ही साथ ही साथ वो जब तब राठौड़, खिलजी और तुगलक वंश के शासकों से उलझते भी रहे। मुंबई में बंदरगाह बनने के बाद से जैसलमेर से होने वाले व्यापार में भारी कमी आयी और उसके बाद ये शहर कभी अपने पुराने वैभव को पा ना सका।

जोधपुर से पोखरन की दूरी हमने ढाई घंटे में पूरी कर ली थी। पोखरन को थोड़ा पीछे छोड़ा ही था कि अचानक हमारी नज़र ज़मीन के एक बड़े टुकड़े में फैले इन पीले रंग के फलों पे पड़ी। दिखने में स्वस्थ इन फलों को यूँ फेंका देख मैंने गाड़ी रुकवाई और वहाँ मौजूद ग्रामीणों से इसका कारण पूछा। हमें बताया गया कि ये फल जंगली हैं और खाने पर नुकसान करते हैं। मन ही मन अफ़सोस हुआ कि इस बंजर ज़मीन में इतने शोख़ रंग का फल पैदा होता है पर उसे भी खा नहीं सकते।


Thursday, November 21, 2013

राजधानी वाटिका, पटना : धर्म और प्रकृति का अद्भुत गठजोड़ !

राजधानी वाटिका से जुड़ी पिछली प्रविष्टि में मैंने  आपको वहाँ पर स्थापित शिल्पों की झांकी दिखलाई थी । आज आपको लिए चलते हैं उद्यान के उस हिस्से में जिसकी हरियाली तो नयनों को भाती ही है पर साथ साथ जहाँ धर्म, ज्योतिष और प्रकृति का गठजोड़ एक अलग रूप में ही दृष्टिगोचर होता है।


पिछली चित्र पहेली में आपको जो  धार्मिक प्रतीक नज़र आ रहे थे वे राजधानी वाटिका के इसी हिस्से के हैं। आपको भी उत्सुकता से इंतज़ार होगा पहेली के सही उत्तर के बारे में जानने का। जैसा कि मैंने आपको बताया था पहला चित्र सिख धर्मावलंबियों की विचारधारा का चित्रात्मक प्रस्तुतिकरण था । इस चिन्ह को सिख खंडा (Khanda) के नाम से जानते हैं।


अगर आप इस धार्मिक चिन्ह और ऊपर बनी आकृति का मिलान करें तो दोनों को एक जैसा पाएँगे। 'खंडा' सिख विचारधारा का मुख्य प्रतीक चिन्ह है। ये उन चार शस्त्रों का संयुक्त निरूपण है जो गुरु गोविंद सिंह जी के समय प्रयोग में लाए जाते थे ।

Friday, November 15, 2013

चित्र पहेली 22 : ये चित्र किन धार्मिक प्रतीकों के प्राकृतिक निरूपण हैं? (Identify the religious symbols hidden in these shapes)

बचपन से इतिहास पढ़ते हुए हमने देखा है कि किस तरह प्रकृति के विविध रूपों की आदि काल से आराधना की गई। अग्नि, वायु, वर्षा, धरती जैसे प्रकृति के अंगों को मानवजाति ने देवता के रूप में पूजना शुरु कर दिया। कहने का मतलब ये कि धर्म और प्रकृति का संबंध आदि काल से अटूट रहा है। इस संबंध को फिर से उजागर कर रही है आज की चित्र पहेली। फर्क सिर्फ इतना है कि जिन प्राकृतिक रूपों से धर्म के प्रतीक चिन्हों का निरूपण करने की कोशिश की गई है वे मानव निर्मित हैं। आपको बस इतना बताना है कि ये रूप विभिन्न धर्मों के किस प्रतीक को दर्शा रहे हैं?

 चित्र ‍1

संकेत 1 : जैसा कि अंतर सोहिल ने अपने जवाब में लिखा है ये प्रतीक सिख धर्म से जुड़ा हुआ है।
संकेत 2 : ये चिन्ह गुरु गोविंद सिंह की प्रस्तावित धार्मिक विचारधारा का प्रतिरूप है।
संकेत 3 : चित्र का संबंध सिखों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले शस्त्रों से है।  
चित्र ‍2

संकेत 1 : ये आकृति बौद्ध धर्म से जुड़ी हुई है।
संकेत 2 : इसका संबंध गौतम बुद्ध द्वारा दी गई मुख्य शिक्षाओं से है।
संकेत 3 : बुद्ध का कहना था कि चत्र में निरूपित विचारधारा के पालन से जीवन में दुखों का अंत होता है और आत्मज्ञान की प्राप्ति होती है।
संकेत तो आपको मिल गए। अब इन संकेतों के मद्देनज़र इन चित्रों को फिर से देखिए। शायद वे आपको सही उत्तर तक पहुँचाने के लिए काफी हों। 
इस पहेली का उत्तर सोमवार को इस ब्लॉग की अगली प्रविष्टि में दिया जाएगा।

Saturday, November 9, 2013

पटना की नई पहचान बन रही है राजधानी वाटिका ! (Rajdhani Vatika, Patna)

पिछले हफ्ते दीपावली में पटना जाना हुआ। यूँ तो पटना में अक्सर ज्यादा वक़्त नाते रिश्तेदारों से मिलने में ही निकल जाता है पर इस बार दीपों के इस उल्लासमय पर्व को मनाने के बाद एक दिन का समय खाली मिला। पता चला कि विगत दो सालों से पटना के आकर्षण में राजधानी वाटिका और बुद्ध स्मृति उद्यान भी जुड़ गए हैं तो लगा क्यूँ ना इन तीन चार घंटों का इस्तेमाल इन्हें देखने में किया जाए। 

स्ट्रैंड रोड पर पुराने सचिवालय के पास बनी राजधानी वाटिका में पहुँचने में मुझे घर से आधे घंटे का वक़्त लगा। दिन के तीन बजे के हिसाब से वहाँ अच्छी खासी चहल पहल थी। दीपावली के बाद की गुनगुनी धूप भी इसका कारण थी। वैसे भी इस चहल पहल का खासा हिस्सा भारत के अमूमन हर शहर की तरह वैसे प्रेमी युगलों का रहता है जिन्हें शहर की भीड़ भाड़ में एकांत नसीब नहीं हो पाता। वैसे तो यहाँ टिकट की दर पाँच रुपये प्रति व्यक्ति है पर कैमरा ले जाओ तो पचास रुपये की चपत लग जाती है। वैसे जब मैंने टिकट घर में कैमरे का टिकट माँगा तो अंदर से सवाल आया कि कैसे फोटो खींचिएगा शौकिया या..। अब अपने आप को प्रोफेशनल फोटोग्राफर की श्रेणी में मैंने कभी नहीं रखा पर मुझे लगा कि उसके इस प्रश्न का मतलब मोबाइल कैमराधारियों से होगा । सो मैंने टिकट ले लिया वो अलग बात थी कि कैमरे की बैटरी पार्क में घुसते ही जवाब दे गई और मुझे सारे चित्र मोबाइल से ही लेने पड़े।

दो साल पहले यानि 2011 में जब इस वाटिका का निर्माण हुआ तो उसका उद्देश्य 'पटना का फेफड़ा' कहे जाने वाले संजय गाँधी जैविक उद्यान पर पड़ रहे आंगुतकों के भारी बोझ को ध्यान में रखते हुए एक खूबसूरत विकल्प देना था। इस जगह की पहचान सिर्फ एक वाटिका की ना रहे इसलिए पार्क के साथ साथ इसके एक हिस्से में बिहार से जुड़े नामी शिल्पियों के खूबसूरत शिल्प रखे गए। वहीं इसके दूसरे भाग में वैसे पेड़ो को तरज़ीह दी गई जिनका जुड़ाव हमारे राशि चिन्हों या धार्मिक संकेतों के रूप में होता है। तो आज की इस सैर में सबसे पहले आपको लिए चलते हैं इस वाटिका के सबसे लोकप्रिय शिल्प कैक्टस स्मृति के पास।


कैक्टस जैसे दिखने वाले इस शिल्प की खास बात ये है कि इसे रोजमर्रा काम में आने वाले स्टेनलेस स्टील के बर्तनों जैसे कटोरी,चम्मच, गिलास, टिफिन आदि से जोड़ कर बनाया गया है। इसे बनाने वाले शिल्पी हैं अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त शिल्पकार सुबोध गुप्ता जिनका ताल्लुक पटना के खगौल इलाके से रहा है। 26 फीट ऊँचे और 2 टन भारी इस कैक्टस में गुप्ता बिहार के जीवट लोगों का प्रतिबिंब देखते हैं जो बिहार के काले दिनों में भी अपने अस्तित्व को बचाने में सफलतापूर्वक संघर्षरत रहे।



Saturday, November 2, 2013

कैसी रही मेरी जापानी बुलेट ट्रेन यानि 'शिनकानसेन' में की गई यात्रा ? (Experience of traveling in a Shinkansen !)

जापान जाने वाले हर व्यक्ति के मन में ये इच्छा जरूर होती है कि वो वहाँ की बुलेट ट्रेन में चढ़े। हमारे समूह ने भी सोचा था कि मौका देखकर हम तोक्यो में रहते हुए अपनी इस अभिलाषा को पूरा करेंगे। ये हमारी खुशनसीबी ही थी कि हमारे मेजबान JICA ने खुद ही ऐसा कार्यक्रम तैयार किया कि तोक्यो से क्योटो और फिर क्योटो से कोकुरा की हजार किमी की यात्रा हमने जापानी बुलेट ट्रेन या वहाँ की प्रचलित भाषा में शिनकानसेन से तय की। जापान प्रवास के अंतिम चरण में कोकुरा से हिरोशिमा और फिर वापसी की यात्रा भी हमने इस तीव्र गति से भागने वाली ट्रेन से ही की। वैसे अगर ठीक ठीक अनुवाद किया जाए तो शिनकानसेन का अर्थ होता है नई रेल लाइन जो कि विशेष तौर पर तेज गति से चलने वाली गाड़ियों के लिए बनाई गई। शिनकानसेन का ये नेटवर्क वैसे तो पाँच हिस्सों में बँटा है पर हमने इसके JR Central और JR West के एक छोर से दूसरे छोर तक अपनी यात्राएँ की। चलिए आज आपको बताएँ कि जापानी बुलेट ट्रेन में हमारा ये सफ़र कैसा रहा?
 

पहली नज़र में 16 डिब्बों की शिनकानसेन, ट्रेन कम और जमीन पर दौड़ने वाले हवाई जहाज जैसी ज्यादा प्रतीत होती है। इसकी खिड़कियों की बनावट हो या इसके इंजिन की, सब एक विमान में चढ़ने का सा अहसास देते हैं। वैसे तो टेस्ट रन (Test Run) में ये बुलेट ट्रेनें पाँच सौ किमी का आँकड़ा पार कर चुकी हैं पर हमने जब तय की गई दूरी और उसमें लगने वाले समय से इसकी गति का अनुमान लगाया तो आँकड़ा 250 से 300 किमी प्रति घंटे के बीच पाया। वैसे आधिकारिक रूप से इनकी अधिकतम गति 320 किमी प्रति घंटे की है।


पूरी यात्रा के दौरान एक बार हमें हिरोशिमा में ट्रेन बदलनी पड़ी। जब हमने अपने टिकट देखे तो हम ये देख कर आवाक रह गए कि  हमारी ट्रेन के हिरोशिमा पहुँचने और हिरोशिमा से दूसरी ट्रेन के खुलने के समय में मात्र दो मिनट का अंतर था। हमारे मेजबान से बस इतना एहतियात बरता था कि दोनों गाड़ियों  के कोच इस तरह चुने थे कि वे आस पास ही रहें। पर ज़रा बताइए तेरह हजार येन के टिकट पर दो मिनटों का खतरा भला कौन भारतीय उठाने को तैयार होगा? 

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails