Thursday, February 19, 2015

फूल के रंग से दिल की कलम से.. तुझको लिखी आज पाती :) The magic of flowers..a spring special

फुकेट की यात्रा के समापन के बाद आपसे वादा किया था भारत के पश्चिमी समुद्र तट के दर्शन कराने का। पर क्या करूँ एक तो एक शाम मेरे नाम पर चल रही वार्षिक संगीतमाला की व्यस्तताएँ तो दूसरी ओर कार्यालयी दौरों की  वज़ह से आजकल फुर्सत के क्षण निकालना दुष्कर हो गया है। वक़्त भले लिखने को कम मिल रहा है पर अपना कैमरा तो हर समय तैयार रहता है प्रकृति के आकर्षक रूपों को आप तक पहुँचाने के लिए। 

जाड़े ने अब तो वापसी कर ही ली है और वसंत बड़े प्यार से हमारे शहर में दस्तक दे रहा है तो मैंने सोचा क्यूँ ना अपने शहर के इस वासंती रूप की एक झलक आपको दिखलाता चलूँ। फूलों के ये चित्र मैंने पिछले दो महीनों में अलग अलग समय पर लिए हैं और तकरीबन सारे चित्र मोबाइल कैमरे के हैं। कोशिश की है की दिल की वादियों में फूलों के ये तिलस्मी रूप जो जादू जगाते हैं उन्हें कुछ अपनी और कुछ नामाचीन शायरों की पंक्तियों में बाँध सकूँ। तो आइए मेरे साथ चलिए फूलों की इस दुनिया की छोटी सी एक सैर पर..

सफेद पंखुड़ियों की कोर में उभरता हरे का अक़्स...  उसकी सुंदरता में चार चाँद लगाता हुआ

खिलती कलियों से रौशन आबोदाना था..क्या कहूँ कितना खूबसूरत उनका ये नज़राना था !

काँटे ही किया करते हैं फूलों की हिफाज़त.. फूलों को बचाने कोई माली नहीं जाता
पीले के संग धानी ...जैसे निखरी धूप के आँगन में कलकल बहता पानी


पीले रंग में रंग दे चुनरिया मैं पी की हो जाऊँ.. भौंरे पिया को रूप का अपने यूँ रसपान कराऊँ

अधखुले सुर्ख लाल होठों का बुलावा आ गया..देखो देखो मेरा चाहनेवाला आ गया

गुलों मे रंग भरे, बाद-ए-नौबहार चले...........चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले

जाने रे जाने सब जाने है कि रंग गुलाबी है प्रीत रो


बना गुलाब तो काँटे चुभा गया इक शख़्स .....हुआ चराग तो घर ही जला गया इक शख़्स

13 comments:

  1. Wah Manish Ji. Man praffullit ho gaya raat ki is bela mein. Fir chiddi raat baat phoolon ki.....

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह सुमित बड़ा ही प्रासंगिक गीत याद दिलाया आपने। सोच रहा हूँ इसे ही शीर्षक बना लेना था। ख़ैर इस बार ना सही अगली बार काम आएगा... :)

      Delete
  2. फूल तो सबको सुन्दर लगते हैं | पर भावों के साथउनकी खूबसूरती बयां कर उसे निखारने का काम तो एक लेखक/ कवि ही कर सकता है .... अति सुन्दर चित्रण....

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको ये चित्रण पसंद आया जान कर खुशी हुई :)

      Delete
  3. Manishji, aap itna khoobsoorat kaise likh lete hain! Aur shirshak padhte hi mann Switzerland devanand ke sang pahunch gaya...such a beautiful song, and equally beautiful writeup

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thx for ur kind words...The beauty of flowers are such that one becomes poetic Though I like this song I didn't remember its picturisation.Now that u have pointed it out I have to see it again.

      Delete
  4. फूलों के रंग से,दिल की कलम से...........मनोरम चित्रमाला

    ReplyDelete
  5. मनीष जी, फूलों को शायरी की माला में पिरोने का आपका अंदाज लाजवाब है।

    ReplyDelete
  6. फूल के रंग से दिल की कलम से.. तुझको लिखी आज पाती :)

    tere hi yaado me khoya hu...
    tere hi khwabo me jaga...

    http://safar2safar.blogspot.in/

    ReplyDelete
  7. pragati varmaMarch 06, 2015

    Aap ne bohot pyara likh te he aaj mene pehli baar dekha or padha bohot acha laga aap ESE hi likha kijiye aap ko thanks

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails