Saturday, November 28, 2015

बिना गुंबद का मकबरा - सिकंदरा Akbar's Tomb, Sikandara, Agra

इतिहास की किताबों में भारत के दो महान सम्राटों का जिक्र हमेशा से होता रहा है। एक तो मगध के चक्रवर्ती राजा व पाटलिपुत्र नरेश अशोक का तो दूसरे मुगलिया सल्तनत के अज़ीम बादशाह अकबर का। नतीजन इनसे जुड़ी इमारतों को देखने का चाव मुझे शुरु से रहा है । आगरा मैं तीन बार जा चुका हूँ। अपनी दूसरी यात्रा में मुझे अकबर की बनाई खास इमारतों में से एक फतेहपुर सीकरी को देखने का सौभाग्य मिल चुका था पर समय आभाव की वजह से उस वक़्त मैं अकबर के मकबरे को देख नहीं पाया था। इसीलिए पिछले महीने जब उत्तर प्रदेश पर्यटन द्वारा आयोजित यात्रा लेखकों के सम्मेलन के पहले भरी दोपहरी में हमारी बस सिंकदरा के सामने रुकी तो मुझे बेहद खुशी हुई। 

Sikandara..the tomb of Akbar

पेड़ों  की झुरमुट के बीच से दिखता सिंकदरा का दक्षिणी द्वार पहली ही नज़र में हमें मंत्रमुग्ध कर गया। हुमायूँ का मकबरा तो उनकी बेगम ने बनवाया था पर अकबर ने अपने मकबरे की नींव ख़ुद ही रखी थी। मकबरे के इस मुख्य द्वार को देखते ही सबसे पहले नज़र जाती है द्वार के चारों कोनों पर खड़ी संगमरमर की बनी मीनारों पर। इससे पहले मुख्य द्वार के साथ मीनारों के बनने का प्रचलन कम से कम मुगल स्थापत्य में नहीं था। 1605 ई में जब ये इमारत बननी शुरु हुई उसके पहले ही हैदराबाद में कुली कुतुब शाह द्वारा चार मीनार का निर्माण हो चुका था। इतिहासकार ऐसा अनुमान लगाते हैं कि शायद चारमीनार की प्रेरणा पर अकबर ने इस द्वार का ये स्वरूप रखा होगा।

South Gate, Sikandara
संगमरमर की ये मीनारें तिमंजिली है जिन्हें अलग करने का काम हर मंजिल पर स्थित बॉलकोनी करती है। अगर आप इस द्वार की तुलना ताजमहल के बाहरी द्वार से करें तो लाल बलुआ पत्थरों पर रंग बिरंगे पत्थरों से की गई कलमकारी सिकंदरा के प्रमुख द्वार को अपेक्षाकृत ज़्यादा सुंदर बना देती है। 

Beautiful inlay work with coloured stone



हुमायूँ के मकबरे की तरह सिंकदरा भी एक चार बाग मक़बरे की तरह बनाया गया है। यानि मकबरे से चारों दिशाओं में जाते रास्ते, उनके बीच बहता पानी और उन रास्तों के बीच चौकोर आकार के बाग और ठीक उनके बीच बना मक़बरा। जैसा कि मैंने हुमायूँ के मक़बरे के बारे में लिखते हुए आपको बताया था कि चार बाग की परिकल्पना कुरान में जन्नत के रूप में की गई है। दक्षिणी द्वार की भव्यता के बाद जब आपकी नज़र मकबरे की मुख्य इमारत पर पड़ती है तो वो कुछ खास प्रभाव नहीं छोड़ पाती। सामने से देखने से तो आप समझ ही नहीं पाएँगे कि जिस इमारत को आप देख रहे हैं वो पाँच मंजिला है।

Akbar's tomb is also a Baghmakbara i.e. charbagh integrated with main monument

इस इमारत के स्थापत्य का अगर सही जायजा लेना हो तो इसे आपको मुख्य द्वार की दूसरी मंजिल से देखना होगा।  अकबर के देहान्त होने तक ये इमारत पूरी नहीं बनी थी। पाँचवी मंजिल को जहाँगीर ने पूरी तरह संगमरमर से बनवाया । इतिहासकारों के लिए ये एक अनुत्तरित प्रश्न ही है कि क्या अकबर ने अपने मूल डिज़ाइन में गुंबद रखा ही ना था या फिर जहाँगीर ने उसे बनवाया ही नहीं? अगर संगमरमर से बने पाँचवे तल्ले के मध्य से गुंबद उठा होता तो इस इमारत की शक़्ल कुछ और होती। अब तो सिर्फ ये अंदाज़ ही लगाया जा सकता है कि शायद सादगी पसंद बादशाह अकबर को ऐसा मंज़ूर ना हो ।

Five storied main building housing Akbar's grave

मकबरे में छोटे दरवाजे से घुसते ही वो जगह आ जाती है जिसे दीवारों पर नक्काशी और कलमकारी से सबसे ज्यादा सुसज्जित किया गया है। छत में अलग अलग उभार देकर उनके मध्य में सुर्ख रंगों से किया गया चित्रांकन मन को मोह लेता है।

Beautiful carving on the ceiling

सजावट में शिल्पियों ने यहाँ भी फूल पत्तियों या ज्यामितीय आकृतियों का सहारा लिया है।


नक्काशी के आलावा पत्थरों में किये गए जाली के काम की खूबसूरती भी देखते ही बनती है।

Fine Jali work

पर इतना खूबसूरत दिखने वाला ये हिस्सा अपने बनने के 75 साल बाद जाट शासकों के हमले का शिकार हुआ। औरंगजेब द्वारा जाट प्रमुख गोकुल की हत्या और मंदिरों की तोड़फोड़ के बदले के स्वरूप 1686 ई में राजाराम के नेतृत्व में जाटों ने इस मक़बरे में आग लगा दी जिससे कि यहाँ बनाई गई बहुतेरी कलाकृतियाँ नष्ट हो गयीं। जाटों का गुस्सा इतना था कि अकबर की कब्र में भी तोड़फोड़ की गई। अपने परपोते की करतूतों का ख़ामियाजा महान अकबर को इस तरह भुगतना होगा ये तब। किसने सोचा होगा?

The fury of Jats who attacked Sikandara in 1686

मक़बरे का अलंकरण इस कक्ष तक ही समाप्त हो जाता है। तहखाने की ओर जाते संकरे से रास्ते की दीवारें सादी ही रखी गई हैं।

Akbar's grave

करीब एक घंटे का समय बिताने के बाद हम मकबरे से बाहर निकले। आशा है आप भी जब आगरा आएँगे तो ताजमहल व फतेहपुर सीकरी के साथ सिंकदरा का भी रुख करेंगे।


अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

इस आलेख से संबंधित कड़ियाँ


11 comments:

  1. सिकन्दरा मैने देखा, यहाँ का शान्त माहौल अच्छा लगा ..... जीवन का लम्बा हिस्सा चारमीनार के आस-पास बीता

    ReplyDelete
    Replies
    1. चारमीनार तो बेहद चहल पहल वाला इलाका है। कहीं चूड़ियों के बाजार तो कहीं मोतियों के हार.. सिकंदरा का भव्य दरवाजा और अंदर की सादगी एक खूबसूरत मिश्रण लगा मुझे।

      Delete
    2. सही कहा आपने !

      Delete
  2. बढ़िया ऐतिहासिक जानकारी मिली इस लेख के माध्यम से

    ReplyDelete
    Replies
    1. जानकर खुशी हुई कि ये लेख आपको पसंद आया।

      Delete
  3. Lovely captures! Nice post!!

    ReplyDelete
  4. Nice post! I had also been there three years ago!
    http://crazytravelerblog.blogspot.in/

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails