Wednesday, December 30, 2015

एक नज़र बीते साल की यात्राओं पर .. Flashback 2015

पिछले साल से विदा लेने का वक़्त लगभग आ पहुँचा है। आपका ये यात्रा ब्लॉग भी अपने आठवें साल में प्रवेश कर जाएगा नई जगहों को आपके सामने प्रस्तुत करने के लिए। तो आगे बढ़ने के पहले एक नज़र गुजरे साल पर।
आपको याद होगा कि साल की शुरुआत मैंने दक्षिणी थाइलैंड के लोकप्रिय समुद्र तटीय शहर फुकेत से की थी। फुकेत शहर के रहन सहन, धर्म, खान पान और नाइट लाइफ के बारे में तो आपको बताया ही था। साथ ही आप मेरे साथ जा पहुँचे थे जेम्स बांड द्वीप पर। पर अपनी फुकेत यात्रा में जिस स्थान ने मेरे दिल में जगह बनाई थी वो थी फी फी द्वीप की यात्रा..

Phi Phi Island, Phuket, Thailand

फरवरी का महीना अपने चारों ओर वसंती रंगों को समेटे था तो दिल हुआ कि आपसे कह दें फूलों की तरह लब खोल कभी, खुशबू की जुबाँ में बोल कभी..

Flowers of Spring
ओड़ीसा पूर्वी भारत का एक ऐसा राज्य है जिसे घुमक्कड़ों और पर्यटकों ने ज्यादा टटोला नहीं है। पुरी कोर्णाक व सतपाड़ा की तरफ़ से चिल्का तो लगभग ओड़ीसा आने वाले सभी लोग देख लेते हैं पर दक्षिण ओड़ीसा के बरहमपुर जिले से सटे चिल्का के दक्षिणे सिरे रंभागोपालपुर के समुद्र तट की सुंदरता भी देखते बनती है। इस ब्लॉग पर मार्च का महीना रहा दक्षिणी ओड़ीसा के नाम

Beautiful Morning at Rambha, Chilka Lake

अप्रैल में मैंने आपको काली मिर्च का स्वाद चखाया अपनी सेलम और यरकॉड की यात्रा के दौरान! यरकॉड की घाटियों को SKYWALK से देखना भी मजेदार रहा..

Green Pepper at Yercaud, Tamilnadu

मई में सिक्किम की पुरानी यादें मुझे खींच ले गई 17800 फीट की ऊँचाई पर हिमालय पर्वतमाला की गोद में बसी गुरुडांगमार झील की यात्रा पर! उत्तरी सिक्किम की इस यात्रा ने मुझे इस साफ सुथरे, मेहनती व अनुशासनप्रिय राज्य के लोगों से पूरी तरह जोड़ दिया।

Gurudongmar Lake, North Sikkim

जून मैं मैं अपनी पहली यूरोप यात्रा पर निकला। यूरोप की पहली झलक मुझे सुबह सुबह वियना के ऊपर से उड़ते हुए मिली। वियना के लहरदार खेत आज भी स्मृतियों से बाहर नहीं निकल पाए हैं..

Aerial view of Vienna, Austria's countryside

पूर्व में उड़ीसा और दक्षिण में तमिलनाडु के बाद मैं आपको ले गया गणपतिपुले के बाद कोंकण के नयनाभिराम समुद्र तटों पर ! मालवण, कुनकेश्वर, तारकर्ली व सिंधुदुर्ग का सफ़र मेरे लिए तो बेहद रोचक रहा..

Kunkeshwar Temple, Malvan, South Maharashtra

Malvan Jetty near Sindhudurg

अगस्त में हिरोशिमा की परमाणु बम गिराने की बरसी पर मैंने वहाँ के लोगों का दुख दर्द आपसे बाँटा जो कुछ साल पहले वहाँ जा के मुझे महसूस हुआ था।

Hiroshima A Bomb Dome

सितंबर के महीने में मैंने अपनी कनाडा यात्रा के पहले हिस्से में नियाग्रा के जलप्रपात के बारे में लिखना शुरु किया जहाँ मुझे पाँच दिन गुजारने का मौका मिला था। नियाग्रा की सुंदरता और उससे से जुड़ी त्रासदियों को आपके सामने लाने की कोशिश की मैंने अपनी उस श्रंखला में

Horse Shoe Fall, Niagara, Ontario, Canada

अक्टूबर तो महीना ही हमारे लिए दुर्गा पूजा का होता है और अगर आपने कोलकाता की दुर्गा पूजा नहीं देखी तो फिर क्या देखा? इसलिए मैंने आप लोगों को कोलकाता और फिर राँची की दुर्गा पूजा के अद्भुत पूजा पंडालों की सैर कराई।

Durga Puja Pandal of Kolkata

अक्टूबर में ही मैं उत्तर प्रदेश पर्यटन के आमंत्रण पर आगरा, इटावा, लखनऊचंबल भी गया। उस यात्रा से जुड़ी कुछ कड़ियाँ तो आ चुकी और कुछ आनी बाकी हैं। नवंबर में आपको में ले गया बैंकाक के चाओ फराया नदी के रात्रि क्रूज पर।

Rama V Bridge at Chao Faraya River, Bangkok, Thailand
इस साल की गई कुछ यात्राओ के बारे में अब तक लिख नहीं पाया हूँ जिसमें सबसे खास रहे यूरोप में बीते पन्द्रह दिन। इसी तरह पूर्व में शिलांग, चेरापूँजी, गुवहाटी, विष्णुपुर के आलावा बैंकाक और टोरंटों की यादों को भी समेटना है इन ब्लॉग के पन्नों पर। पिछले साल कई बार अखबारों में मुसाफ़िर हूँ यारों का जिक्र हुआ। हिंदी का ब्लॉग होते हुए भी कई वेब साइट्स ने इसे देश के अग्रणी अंग्रेजी ट्रैवेल ब्लागों के बीच स्थान दिया। दैनिक भास्कर के लिए यात्रा कॉलम लिखने का भी मौका मिला। ये सब मुसाफ़िर हूँ यारों के पाठकों के सतत प्रेम से ही संभव हुआ है। आशा है आप सब ऐसे ही इस मुसाफ़िर के साथ आगे भी कदम ताल करते रहेंगे।


अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

8 comments:

  1. बहुत शानदार सफर रहा है अब तक आपका ! थाईलैंड और सिक्किम के फोटु देखकर मन ललचाने लगता है ! बहुत बहुत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आपका योगी !

      Delete
  2. वाह आपके साथ इस सफ़र के साक्षी हम भी रहे।नववर्ष की बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया साथ बने रहने का !

      Delete
  3. आपकी यात्रा को देख कर हमें यह नहीं लगता है की हम पढ़ रहें है बल्कि लगता है की धूम रहें है हाँ एक बात है की आप किराया तथा बहां के बारे में उनका रहन सहन खान पान एवं कल्चर भी आपको लिखना चाहियें आप लिखतें है पर डिस्कवरी की तरह पूरी व्याख्या भी हो तो और मजा आ जाएगा साल का अंत भी अच्छा लगा

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब जब अलग संस्कृति के लोगों के बारे में लिखता हूँ तो मेरी कोशिश होती है वहां के रीति रिवाजों के बारे अवगत कराता चलूँ।. जापान और थाइलैंड से जुड़े लोगों के रहन सहन, खान पान और धर्म के बारे में मैंने विस्तार से लिखा है इस ब्लॉग पर.
      जहाँ तक खर्चे की बात है तो आप किसी भी पोस्ट या ब्लॉग के फेसबुक पेज पर प्रश्न करें, अपनी जानकारी के हिसाब से मैं आपके प्रश्न का उत्तर देने की कोशिश करूंगा.

      Delete
  4. आपकी यात्रायें बेहद मनोरंजक रही हैं।नववर्ष पर बहुत बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया साथ बने रहने के लिए. आपको भी नया साल मुबारक हो.

      Delete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails