Saturday, March 12, 2016

कैसा दिखता है आकाश से मेघालय ? Kolkata to Shillong : An aerial view of Meghalaya !

कुछ साल पहले की बात है। हिंदी में यात्रा लेखन पर शोध कर रही एक उत्तर पूर्व की छात्रा ने मुझसे  सिक्किम यात्रा वृत्तांत से जुड़े सवाल पूछे थे। साथ ही ये प्रश्न भी किया था कि सिक्किम के आलावा उत्तर पूर्व के किसी राज्य में क्या आप नहीं गए?  मैंने उससे कहा सोच तो बहुत सालों से रहा हूँ पर लगता है मेघालय व असम जाना शीघ्र ही हो जाए। पर वो 'शीघ्र' उस बातचीत के तकरीबन दो साल बाद आया जब दुर्गा पूजा की छुट्टियों में मेरा शिलांग, चेरापूँजी, मावल्यान्नॉंग और गुवहाटी जाने का कार्यक्रम बना। 

The abode of Clouds मेघों का आलय (घर) मेघालय

पर पूजा की छुट्टियों के समय मेघालय की ओर रुख करने की सबसे बड़ी समस्या रहने की होती है। चेरापूँजी में ज्यादा ढंग के होटल नहीं है और जो हैं वो महीनों पहले पूरी तरह आरक्षित हो जाते हैं। इसलिए अपने मेघालय प्रवास का केंद्र मुझे मजबूरन शिलांग बनाना पड़ा।

कोलकाता से शिलांग पहुँचने के दो रास्ते हैं। कोलकाता से गुवहाटी की उड़ान लीजिए और फिर वहाँ से सड़क मार्ग से सौ किमी की दूरी तीन घंटे में सड़क मार्ग से तय कीजिए। दूसरा तरीका ये है कि कोलकाता से शिलांग की सीधी उड़ान भरिए। पर इसके लिए आपको आरक्षण काफी पहले से कराना होगा  क्यूँकि इस मार्ग पर सिर्फ एयर इंडिया का विमान ही उड़ान भरता है। हमारे समूह में कुछ लोग गुवहाटी होकर आ रहे थे जबकि मुझे कोलकाता से शिलांग की सीधी उड़ान भरनी थी।

At Kolkata Airport नेताजी सुभाष चंद्र बोस एयरपोर्ट कोलकाता
करीब पौने एक बजे हमने कोलकाता से उड़ान भरी। गंगा डेल्टा को पार किया। पर मेघालय की सीमा तक पहुँचने में तकरीबन घंटे भर का समय लग गया। डेढ़ घंटे की उड़ान के आख़िरी आधा घंटे में नज़रें एक बार खिड़की से क्या चिपकी, फिर तो चिपकी ही रह गयीं। मेघालय एक ऐसा राज्य है जहाँ बारिश बहुतायत में होती है। राज्य का सत्तर प्रतिशत इलाका जंगलों से भरा पूरा है। पठार की समतल भूमि पर धान की खेती भी खूब होती है। सो जिधर भी देखिए वहाँ हरियाली ही हरियाली नज़र आती है।

Aerial View, Meghalaya मेघालय के आकाशीय नज़ारे




इस हरी भरी रंगत में कोई खलल डालता है तो वो है यहाँ की लाल मिट्टी और बारिश के दिनों में उसे बहा कर ले जाने वाली यहाँ की पतली दुबली नदियाँ।


शिलांग पर उतरने के पहले हमारे छोटे से विमान ने यहाँ की खूबसूरत उमियम झील का भी एक चक्कर लगाया।

Umiom Lake उमियम झील

जैसे जैसे शिलाँग पास आने लगा नीचे के दृश्यों को देखकर ये अनुमान लगाना मुश्किल नहीं रह गया कि आखिर इस शहर को स्कॉटलैंड आफ दि ईस्ट क्यूँ कहते हैं?



शिलांग तो हम पहुँच गए पर हमारे समूह में दो लोग गुवहाटी से आ रहे थे । उनसे हमें शिलांग के बड़ापानी एयरपोर्ट पर मिलना था। हमारी उड़ान उस दिन की आख़िरी उड़ान थी। थोड़े ही देर में हमारी उड़ान से आए यात्री एक एक कर के चले गए। अब सारा एयरपोर्ट इसी चिंता में था कि कब इनकी गुवहाटी वाली गाड़ी आए और कब ये यहाँ से रुखसत हों ताकि एयरपोर्ट के स्टॉफ बोरिया बिस्तर बाँध कर घर को चलें। डेढ़ घंटे तक उन्हें झिलाने के बाद जब हमारी गाड़ी आई तो हमारे साथ उन्होंने भी चैन की साँस ली :)

छोटे छोटे खिलौनौं सरीखी दिखती सेना की एक कॉलोनी
हवाई अड्डे से बाहर निकले ही थे कि बरसाती मेघों ने आकाश पर कब्जा जमा लिया और थोड़ी ही देर में अच्छी खासी बारिश शुरु हो गई। ख़ैर बारिश से तो निकल गए पर एयरपोर्ट से लगभग पच्चीस किमी दूर शिलांग शहर में अपने होटल तक पहुँचने में हमारे पसीने छूट गए।

Badapani Airport, Shillong बड़ापानी हवाई अड्डा, शिलांग

शिलांग शहर में घुसते ही गाड़ियों की लंबी कतारों ने हमारा स्वागत किया। चौड़ी चौड़ी सड़कों पर भी गाड़ियाँ तीन अलग अलग पंक्तियों में कतार बाँधे रेंगती हुई चल रही थीं। मुंबई के बाद फिएट कार को टैक्सी  के रूप में शिलांग में देखकर सुखद आश्चर्य हुआ। पुलिस बाजार तक की  अंतिम पन्द्रह मिनट की दूरी को तय करने में उस जाम में हमें दो घंटे लग गए।

Outside of Badapani Airport शिलांग हवाई अड्डे का बाहरी दृश्य !

बाद में अगले दिन जाम की ख़बर अखबारों में भी छपी। कारण ये दिया गया कि सारा शहर ही पूजा की छुट्टियों के पहले खरीदारी करने को निकल पड़ा था। अब बताइए जिस राज्य की तीन चौथाई आबादी ईसाई हो वहाँ अगर पूजा की छुट्टियों में ये हाल है तो जाने क्रिसमस में क्या होता होगा?

Grey, Green & Red : The tricolour of Meghalaya स्याह, हरा व लाल ये हैं तीन प्राकृतिक रंग मेघालय के !
थाइलैंड की यात्रा के बाद इंटरनेट से होटल की बुकिंग की सहूलियत पर मेरा विश्वास जगा था पर शिलांग में होटल अभिषेक इन की नेट बुकिंग के बुरे अनुभव के बाद मुझे लग गया कि भारत में अभी भी व्यावसायिकता की भारी कमी है। होटल बुकिंग के अपने कड़वे अनुभव तो यहाँ पहले ही लिख चुका हूँ। 

ख़ैर होटल में अपना सामान रखकर हम शहर के केंद्र पुलिस बाजार की रौनक का आनंद लेने चल पड़े। सड़क पर खासी चहल पहल थी। पूजा बाजार में लोग उमड़े पड़ रहे थे। थोड़ी बहुत खरीददारी करने के बाद  भोजन की खोज में निकले। हमारे जैसे शाकाहारियों के लिए तो नहीं पर यहाँ के सामिष  खासी व्यंजन का स्वाद अगर चखना हो तो यहाँ के रेड राइस रेस्ट्राँ को आप आज़मा सकते हैं।


अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

30 comments:

  1. मेरा नार्थ ईस्ट से अब तक परिचय नहीं है। जल्दी ही आपके साथ एक नया सफ़र शुरू हो रहा है। ऑनलाइन बुकिंग करने के अभी तक हमारे अनुभव बढ़िया रहे हैं।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अच्छा पर शिलांग का हमारा अनुभव सही नहीं रहा।

      Delete
  2. सुन्दर है मेघालय ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ खूब हरा भरा..

      Delete
  3. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (13-03-2016) को "लोग मासूम कलियाँ मसलने लगे" (चर्चा अंक-2280) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार !

      Delete
  4. beautifully written, thanks for refreshing the memories

    http://www.semwalonwheels.com/2014/07/shillong-scotland-of-east-india-part-i.html

    Looking forward for next post

    ReplyDelete
    Replies
    1. Read your post too Mahesh. Thx for sharing the related link.

      Delete
  5. सुन्दर वर्णन है, आगे पढ़ने की उत्सुकता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया! महीने भर चलेगी उत्तर पूर्व की ये श्रंखला :)

      Delete
  6. Bhut shandar sir ji nxt post ka intzar rhega

    ReplyDelete
    Replies
    1. अब आपकी सिफारिश पर ये श्रंखला शुरु की है तो आशा है सारी कड़ियों में आपका साथ बना रहेगा। :)

      Delete
    2. Ha sir ji bilkul apke post pdke hum bhi ghum aate h nayi nayi jagah pr

      Delete
  7. मैं भी सितम्बर में गया था NEPA( North East Police Academy) में, क्या गजब की खूबसूरती,चेरापूंजी जाने के रास्ते में हो या उमियम झील के किनारे, आँखें थक जाएँ पर मन नहीं। सर, मुझे पता है कि आप हमें वो चीजें भी दिखाएंगे जो हम नहीं देख सके। पर पारदर्शी झील जो शिलौंग से 80-90 km है और सेवन सिस्टर्स फॉल की स्पष्ट तस्वीर जरूर डालिएगा अपने वाल पर, ताकि सारी यादें ताजा हो जाएँ और एलिफेंटा फाल्स की भी। बांग्लादेश बॉर्डर हो या इकोपार्क या पुलिस बाजार, बस एक ही चीज कहूँगा" शानदार, जबरदस्त, जिंदाबाद"।

    ReplyDelete
    Replies
    1. पारदर्शी झील तक तो मैं नहीं जा पाया अलबत्ता लैटलम कैनयन , एशिया के सबसे सुथरे गाँव और एक ऐसे अनजाने जलप्रपात की सैर आपको जरूर कराऊँगा जिसे लाँघते हुए मेरे पुराने कैमरे ने जल समाधि ले ली थी।
      उमियम लेक, चेरापूँजी का रास्ता तो मनोरम था ही पर सात बहनों के झरने के बजाए मुझे नोहकलिकाई का झरना ज्यादा आकर्षित कर गया।

      Delete
  8. सार्थक व प्रशंसनीय रचना...
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  9. मेघालय यात्रा की शुरुआत अच्छी रही .... हमलोगों के लिए तो बहुत दूर है ये जगह ....

    www.safarhaisuhana.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. जब दार्जलिंग जा सकते हैं तो फिर वहाँ से गुवहाटी कितना दूर है। गुवहाटी घूमिए और वहाँ से सड़क मार्ग से कुछ घंटों में शिलांग पहुँच जाइए।

      Delete
  10. मनोहर लगी मेघालय की यात्रा ........

    ReplyDelete
    Replies
    1. जानकर प्रसन्नता हुई !

      Delete
  11. होली की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको व आपके परिवार को भी शुभकामनाएँ गिरधारी :)

      Delete
  12. Well written and beautifully clicked. Shillong one of the best place to see nature beauty. Thanks for your amazing blog and you write in national language is commendable job :) Keep it up!

    ReplyDelete
  13. sir kya aap bat sakte hai ki jodhpur se yha tk kis taraha jaya ja sakta hai by train.?

    ReplyDelete
    Replies
    1. जोधपुर से गुवहाटी के लिए एक्सप्रेस ट्रेन हैं। गुवहाटी से शिलांग बस या कार से तीन साढ़े तीन घंटे में पहुँचा जा सकता है।

      Delete
  14. Meghalaya such a nice place I hope me b kabi ja pau

    ReplyDelete
    Replies
    1. Dil mein mazboot irade hon to khwab poore jarur hote hain. Best season to visit Meghalaya is just after monsoon.

      Delete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails