Saturday, May 25, 2013

आइए चलें स्पेस वर्ल्ड की मनोरंजक दुनिया में.. Welcome to Space World, Kitakyushu !

जैसा कि मैंने आपको बताया था कि मोज़ीको (Mojiko) के बाद हमारा अगला सप्ताहांत बीता अंतरिक्ष संसार यानि स्पेस वर्ल्ड (Space World) में। कीटाक्यूशू शहर के याहाता वार्ड  से मोज़ीको जाने वाले रेल मार्ग में स्पेस वर्ल्ड पहला स्टेशन है। स्टेशन के प्लेटफार्म से ही आपको इस थीम पार्क के दर्शन हो जाएँगे। आज जिस जगह ये थीम पार्क बनाया गया है वहाँ कभी विश्व की अग्रणी स्टील कंपनी निप्पन स्टील (Nippon Steel) का कारखाना हुआ करता था। जब स्टील की खपत कम होने लगी तो कंपनी ने यहाँ अपनी ज़मीन पर ये अंतरिक्ष संसार बसा दिया।

जुलाई का पहला हफ्ता था। भारत की तरह जापान के लिए भी ये मौसम बारिश का होता है। सुबह से आकाश में घने बादल छाए थे।पर हफ्ते में पाँच दिन की थका देनी वाली ट्रेनिंग के बाद छुट्टी का कोई दिन हम व्यर्थ नहीं गँवाना चाहते थे। तो दर्जन भर भारतीयों की टोली चल पड़ी इस थीम पार्क का आनंद उठाने के लिए। 


इस अंतरिक्ष संसार में प्रवेश करने का टिकट था 4200 येन का। पर शाम तक हमें लगा कि हमने जितना खर्च किया उससे ज्यादा पैसे वसूल हो गए।



स्पेस वर्ल्ड की पहचान है  डिस्कवरी अंतरिक्ष यान का ये विशालकाय मॉडल। वैसे अपने नाम के अनुरूप ये थीम पार्क इच्छुक विद्यार्थियों को अंतरिक्ष में रहने की ट्रेनिंग भी देता है जिसे स्पेस कैंप (Space Camp) का नाम दिया जाता है। प्रशिक्षण के दौरान प्रतिभागियों को नासा (NASA) के अंतरिक्षयात्रियों जैसे ही उपकरण दिए जाते हैं ।


स्पेस वर्ल्ड के इस अंतरिक्ष यान के ठीक सामने एक जबरदस्त रॉलर कोस्टर है जिसका नाम है वीनस (Venus GP) । हम लोगों ने एक हल्की राइड करने के बाद इसकी ओर रुख किया। इसका आकार प्रकार देखने के साथ ही हमारी टोली के आधे से ज्यादा लोगों के होश फाख़्ता हो गए। ऊपर के चित्र में तो आपको तीन सौ साठ डिग्री(360 degree) का ही सिर्फ घुमाव दिख रहा होगा पर दरअसल ये पूरी राइड ही टेढ़े मेढ़े घुमावों से भरी है। बारह में से चार लोग ही इसे करने के लिए तैयार हुए जिसमें एक मैं भी था। बस मन में डर के आगे जीत है का जज़्बा ले कर बैठ तो गए पर एक बार जब राइड शुरु हो गई तो मन ही मन यही सोचता रहा  जापानियों अब तो बस करो यार, क्या पूरी जान ले के छोड़ोगे ? सच बताऊँ तो 360 डिग्री वाला चक्कर  सेकेंड्स में निकल गया पर तूफानी गति से आठ का चक्कर लगाते हुए ऐसा लगा मानो शरीर का अंग अंग इधर से उधर हो गया हो।


चित्र सौजन्य

वेनस से उतरने के बाद अपना अस्तित्व पृथ्वी पर क़ायम करने में मुझे दस मिनट लग गए। लोगों ने फ्री फाल वाली अपेक्षाकृत आसान अगली राइड पर जाने की सलाह दी पर मैंने मना कर दिया। वैसे स्पेस वर्ल्ड की एक बेहद नामी राइड Zaturn है जिसमें लगभग साठ मीटर की ऊँचाई और 88.9° कोण से  130 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से आदमी नीचे की ओर आता है। गनीमत थी कि हम जिस वक़्त स्पेस वर्ल्ड पहुँचे ये राइड चल नहीं रही थी।


बारिश का मौसम होते हुए भी पार्क में जापानी सैलानियों की संख्या काफी थी। जहाँ बच्चे अपने माता पिता के साथ आए हुए थे वहीं युवा समूहों में मौज़ूद थे।  स्पेस वर्ल्ड के अंदर ही सूरजमुखी के फूलों का एक बड़ा सा बाग है जिसकी सुंदरता देखते ही बनती है।


और ये है यहाँ की Ferris Wheel. अपनी पूरी यात्रा में मैं जापान के जिस शहर से गुजरा ये हर जगह नज़र आई। इसे देखते ही आपको अपने कस्बों शहरों में होने वाले त्योहारी मेलों के झूले याद आ गए होंगे। पर अपने
यहाँ जहाँ ऊपर से नीचे आते झूले की गति चक्करों के साथ बढ़ती जाती है वहीं जापान में ये मंथर गति से एक चक्कर लगाने में ही पाँच मिनट ले लेते हैं। यानि यहाँ ये झूले के रूप में नहीं बल्कि आस पास के दृश्यों को ऊपर से देखने के लिए इस्तेमाल होते हैं इसीलिए इन्हे यहाँ Observation Wheel के नाम से भी जाना जाता है। यूँ तो संसार की सबसे ऊँची (165m)  व्हील सिंगापुर में है पर स्पेस वर्ल्ड की स्पेस आई (Space Eye) भी कम नहीं है ।


इसकी ऊँचाई 100 मीटर है और इसके ऊपर से ना केवल  स्पेस वर्ल्ड पर समूचे याहाता कस्बे का विहंगम दृश्य देखा जा सकता है।


हल्की बारिश शुरु हो गई थी पर इससे बच्चों के उत्साह में कोई कमी नहीं आई थी। बारिश के बूँदों के साथ ही वे जंपिंग जपांग करने में मस्त थे। आप चाहे संसार के किसी कोने में चले जाएँ बच्चों के रूप भले ही अलग मिलें पर उनकी प्रवृति एक सी रहती है।


घूमते घामते हम लोग 4D थियेटर पहुँचे, अब तक थ्री डी थिएटर के बारे में सुना था पर एक बड़े से 4D थियेटर में फिल्म देखने का ये मेरे लिए पहला अनुभव था। दरअसल 3D और 4D में फर्क सिर्फ इतना है कि यहाँ आपकी सीट में हवा और पानी निकलने के कई छिद्र बने होते हैं। फिल्म में चरित्र उधर पानी में कूदा और  इधर पानी के छींटे आपके शरीर पर। बंदूक से सनसनाती हुई गोली हीरो के कानों के बगल से निकली इधर पास से हवा का झोंका आपके कानों में एक सिहरन पैदा करते हुए निकला। यानि आप  कितनी भी कोशिश कर लें फिल्म में होने वाली घटनाओं से अपने आप को अलग थलग नहीं कर पाएँगे।

तीन घंटों से ज्यादा का वक़्त हो चला था। बारिश के बाद की उमस की वज़ह से सबको जोर की प्यास लग रही थी। साथ में खाली उदर का मसला भी था। शाकाहारी भोजन की तलाश हमें इस रेस्ट्राँ तक लाई। फिंगर चिप्स मेनू में देख कर सब आश्वस्त हुए। पानी के साथ फ्रेंच फ्राई का भोग लगाया गया। हालांकि उसमें इस्तेमाल तेल हमें अपने स्वाद के हिसाब से नहीं जँचा।


रेस्ट्राँ से निकल कर हम वापसी का मूड बना ही रहे थे कि दूर से ही तेज संगीत की धुन ने हमारे पाँव उधर मोड़ दिए। जैसा इस तरह के थीम पार्क में होता है ,एक आहाते में सांस्कृतिक कार्यक्रम चल रहा था। पश्चिमी संगीत की धुन पर लड़के लड़कियाँ थिरक रहे थे। पर मुख्य आकर्षण का केंद्र थे रंग बिरंगी साज सज्जा में झूमते कार्टून चरित्र जिनके आते ही बच्चे ताली बजा कर खुशी का इज़हार कर रहे थे।

स्पेस वर्ल्ड की इस यात्रा में हमें जापानी समाज में  एक नए चलन का पता चला जिसके बारे में जानकर हमें बड़ी हैरानी हुई। वैसे इस प्रविष्टि के दूसरे चित्र में क्या आपको कुछ खटकने वाली बात नहीं दिखाई दी? उसी से जुड़ी है इस श्रृंखला की अगली कड़ी...

इस यात्रा से जुड़े कुछ अन्य चित्र  इस ब्लॉग के फेसबुक पेज पर भी आप देख सकेंगे।

15 comments:

  1. वाह वाह......
    मस्त है...टेक्नोलोजी के जलवे हैं....
    बेहतरीन राइड!!!
    enjoyed!!!

    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही कहा आपने ! जापान में तकनीक तो पग पग पर चमत्कृत करती ही है।

      Delete
  2. जापान की सैर शुरू से ही मजेदार रही है, पर आज के क्या कहने...
    सचमुच, तकनीक का रचयिता है जापान.......

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया इस प्रविष्टि को पसंद करने के लिए !

      Delete
  3. वाह, रोमांचक अनुभव

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस थीम पार्क के भिन्न भिन्न रोलर कोस्टरों से गुजरना डर को चुनौती देना है।

      Delete
  4. वाह सूरजमुखी तक करीने से है

    ReplyDelete
    Replies
    1. हा हा हा सही पकड़ा आपने :)

      Delete
  5. Hi, which place is it?

    ReplyDelete
  6. It's amazing Manish ji.Thanks for sharing.....

    ReplyDelete
  7. WOW ! WHAT A FABULOUS DESCRIPTION. AISA LAGTA HAI HAM WAHIN PAHUCH GAYE. BEAUTIFUL

    ReplyDelete
  8. अनुपम, अद़भुद, अतुलनीय, अद्वितीय, निपुण, दक्ष, बढ़िया यात्रा कभी समय मिला तो अवश्‍य घूमने जायेगें
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें
    MY BIG GUIDE
    नई पोस्‍ट
    अब 2D वीडियो को देखें 3D में

    ReplyDelete
  9. main to sapane me bhi itni himmt nhi karati ..

    aapne final destination dekhi hai ...dekhiyega .:-)

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails