Saturday, August 15, 2020

केरल जहाँ की सुंदर प्रकृति के साथ लोग भी हैं इंसानियत भरे ...Kerala : Human By Nature

भारत के दक्षिणी पश्चिमी कोने पर बसा एक दुबला पतला सा राज्य है केरल पर ये राज्य अपनी कृशकाया में ना जाने कितनी विविध संस्कृतियों को सैकड़ों सालों से समेटता आया है। इतिहास गवाह है कि इसकी दहलीज़ पर जब जब व्यापारियों और धर्म प्रचारकों ने कदम रखे उन्हें यहाँ के राजाओं ने ना केवल पनाह दी बल्कि उनकी रहन सहन और संस्कृति के भी कई पहलुओं को स्थानीय जीवन शैली में समाहित किया।



क्या अरब, क्या पुर्तगाली, क्या डच, क्या यहूदी, सब इस मिट्टी का हिस्सा बने। वे अपने साथ अपना धर्म तो लाए पर उन्होंने यहाँ रहते रहते स्थानीय परंपराओं को अपने रहन सहन का हिस्सा बना लिया। जब आप केरल जाएँगे तो यहाँ की साझा संस्कृति और मानवीय मूल्यों के कई उदाहरण आपको बस यूँ ही घूमते फिरते दिख जाएँगे।

जब मैं पहली बार कोच्चि गया था तो मात्तनचेरी की गलियों से गुजरते हम एक यहूदी सिनगॉग पहुँचे तो सबसे पहले इसका अज़ीब सा नाम ध्यान आकर्षित कर गया। यहूदियों का ये प्रार्थना स्थल परदेशी सिनगॉग (Pardeshi Synagogue) कहलाता है। इसका कारण ये है कि इसे यहाँ रह रहे स्पेनिश, डच और बाकी यूरोपीय यहूदियों के वंशजों ने मिलकर 1568 में बनाया था। इसलिए परदेशियों का बनाया परदेशी प्रार्थना स्थल हो गया। मज़े की बात ये है कि किसी यहूदी प्रार्थना स्थल में चप्पल उतार कर जाना अनिवार्य नहीं रहता । पर परदेशी सिनागॉग में आप बिना चप्पल उतारे प्रवेश नहीं कर सकते। साफ है कि समय के साथ हिंदू रीति रिवाज का यहाँ रहने बाले यहूदियों पर भी असर पड़ा और उन्होंने उसे अपना लिया।


 

केरल में राह चलते आप किसी भोजनालय में चले जाएँ। आपको कई बार दीवारों पर यहाँ के तीन धार्मिक समुदाय के प्रतीक चिन्ह इकट्ठे दिख जाएँगे। शांतिपूर्ण सहअस्तित्व की अद्भुत मिसाल है ये प्रदेश। यहाँ के लोग भले ही अलग अलग धर्म के अनुयायी हों पर विपत्ति आने पर समाज एक सूत्र में बँधकर एक दूसरे की मदद करता है। अभी हाल ही में कोज़ीकोड में एक विमान दुर्घटना हुई और मिनटों में आसपास के लोग मलबे से लोगों को बाहर निकालने और फिर घायलों को खून देने की ज़द्दोज़हद में जुट गए।

ऍसा ही एक किस्सा याद आता है मुझे जो मेरे एक केरलवासी मित्र ने वहाँ की यात्रा के दौरान सुनाया था। भारतीय मानसून की प्रचंडता को सबसे पहले केरल ही सहन करता है। ऐसे ही एक मानसून के दौरान हुई अत्याधिक वर्षा से मेरे मित्र का गाँव बारिश से पूरी तरह घिर गया था। वे इसी असमंजस में थे कि किस तरह अचानक आई बाढ़ से सुरक्षित निकल पाएँगे कि अगले ही दिन वहाँ से दस बीस किमी दूर मछुआरों की बस्ती से लोग स्वेच्छा से अपनी नाव ले कर उनकी मदद के लिए आ पहुँचे थे। केरल में एक दूसरे को मदद करने की ये परंपरा हर त्रासदी के बीच उभर कर सामने आती है।


लोगों की मदद करने की ये प्रवृति हमें कोच्चि  में भी दिखी थी। एलेप्पी के बैकवाटर्स में नौका यात्रा कर मैं लौटते हुए कोच्चि पहुँचा था। हमें वहाँ रहने के लिए रिहाइशी इलाके में गेस्ट हाउस मिला था। इलाके में ज्यादा दुकानें नहीं थीं। ले दे एक छोटा सा रेस्ट्राँ था। शाम को खाने के लिए जब वहाँ पहुँचे तो लगा कि ये जान लें कि कोच्चि में कहाँ कहाँ जाना श्रेयस्कर रहेगा ? रेस्ट्राँ के मालिक से पूछा तो भाषा की अड़चन सामने आ गयी। हमारी मदद के लिए वो अपने कई ग्राहकों को बारी बारी से बुलाता रहा जो कि अंग्रेजी में बात कर सकें और उसकी ये कोशिश तब तक ज़ारी रही जब तक हमें अपने प्रश्न का यथोचित जवाब मिल नहीं गया।

केरल जैव विविधता लिए एक बड़ा ही खूबसूरत राज्य है जिसके पश्चिमी किनारे के समानांतर बहता अरब सागर कई नयनाभिराम तटों और बैकवाटर्स के अद्भुत जाल को समेटे है तो दूसरी ओर पश्चिमी घाट की पहाड़ियाँ हैं जिनकी ढलानों पर लगाए गए चाय के साथ मसालों और रबर के बागानों की सुंदरता देखते ही बनती है।  इस खूबसूरती में चार चाँद लगाती है यहाँ की मिश्रित संस्कृति और इंसानियत का जज़्बा रखने वाले यहाँ के लोग। इसलिए जब भी केरल जाएँ यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने के साथ साथ कुछ वक़्त यहाँ की संस्कृति, पर्व त्योहार को समझने और यहाँ के मिलनसार लोगों से मिलने जुलने में भी बिताएँ। यकीनन ऐसा करने से आपके सफ़र का मजा दोगुना हो जाएगा।  

Sponsored by Kerala Tourism

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails