Sunday, June 8, 2014

कैसा दिखता है ब्रसल्स (बेल्जियम) आसमान से ? Aerial View of Brussels and its adjoining areas !

पिछले महीने आपसे नैनीताल के यात्रा विवरण को साझा कर ही रहा था कि पहले घर की एक शादी के सिलसिले में नई दिल्ली जाना पड़ा और फिर वहीं से अनायास एक हफ्ते के लिए कनाडा के नियाग्रा जाने का कार्यक्रम बन गया। इन वज़हों से पिछले दो तीन हफ्तों से इस ब्लॉग पर झाँकने की भी फुरसत नहीं मिली। बहरहाल अपनी नैनीताल यात्रा की आगे की कड़ियों को तो कुछ दिन बाद फिर आगे बढ़ाऊँगा ही। पर आज आपको दिखाने जा रहा हूँ उत्तर पश्चिमी यूरोप में हालैंड के दक्षिण में स्थित  देश बेल्जियम की राजधानी ब्रसल्स के कुछ आकाशीय नज़ारे जिन्हें कनाडा से आते वक़्त मैंने अपने कैमरे में क़ैद किया। जापान के धान के उन खेतों की हरियाली ने मन मोह लिया था पर यूरोप तो अपने खूबसूरत गाँवों और कस्बों के लिए पहले से ही मशहूर है। क्या यूरोप का ये देश उसकी इस छवि को सार्थक कर पाया? आप खुद ही देख लीजिए।

First View of Belgium बेल्जियम की पहली छवि

दरअसल नई दिल्ली से टोरंटो तक की यात्रा में हमें आते और जाते वक़्त ब्रूसेल्स में अपना विमान बदलना था। देर से टिकट होने की वज़ह से जाते वक़्त तो खिड़की के बगल वाली सीट हाथ नहीं लगी पर लौटते वक़्त ब्रूसेल्स के आस पास के अद्भुत नज़ारों को करीब से देखने का मौका मिला।  टोरंटो से शाम साढ़े छः बजे चलने वाली  उड़ान जब बेल्जियम की इस खूबसूरत राजधानी के पास पहुँची तो स्थानीय घड़ी के हिसाब से वहाँ सुबह के सात बज रहे थे। बाहर का तापमान बारह डिग्री था पर हल्की हल्की धूप बेल्जियम के कस्बों और शहरों में फैल रही थी।

Tiny hamlets surrounded by abundant greenery  हरे भरे जंगलों के बीच बसा छोटा सा कस्बा

तिकोनी छत यूरोप और अमरीका के घरों की पहचान है। शायद ही हममें से कोई ऐसा हो जिसने अपनी ड्राइंग की कक्षा में ऐसे घर ना बनाए हों। जाड़े में बर्फ छतों पर ना जमें इसीलिए ऐसे घर यहाँ आम होते हैं। इन चित्रों से कई बातें स्पष्ट हैं। सारे गाँव और कस्बे सड़कों से जुड़े हैं और बेहद साफ सुथरे हैं। घरों के पास सड़कों की बगल में जो आप लाल धारियाँ देक रहे हैं वो फुटपाथ की हैं। हमारे गाँव और कस्बों में तो ऐसी कल्पना करना भी मूर्खता होगी।
How beautiful is this town कितना प्यारा है ना ये कस्बा ?

जैसे जैसे हम बेल्जियम की राजधानी के पास पहुँचने लगे इन कस्बों की सघनता बढ़ने लगी।

Two roads crisscrossing a settlement
 ज्यादातार घरों की छतें एक ही रंग की दिखीं। जापान से उलट यहाँ खेत आयताकार और वर्गाकार ना होकर भारत की ही तरह हर आकृतियों में नज़र आ रहे थे। इन जुते हुए खेतों की फिनिश ऐसी थी कि समझ नहीं आ रहा था कि इन्हें किस तरह जोता गया होगा। ऊपर से ये खेत और जंगल इतने मोहक लग रहे थे कि समझ ही नहीं आ रहा था कि कब अपने कैमरे के शटर को दबाना बंद करूँ?

Farmed Land or lovely piece of Modern Art जुते हुए खेत या मार्डन आर्ट ?

No Belgians don't love rectangles...  लगता है बेल्जियम वासियों को आयताकार पसंद नहीं :)

What a finish ! इतना चिकना खेत देखा है कभी !

Ohh what a lovely landscape ओह कितना प्यारा दृश्य... बस उस झील के पास एक मकान हो अपना

Solar Panels utilising Non Conventional Energy in a big way सौर उर्जा का व्यापक इस्तेमाल


Brussels Airport ब्रसल्स का हवाई अड्डा !
 ब्रसल्स के आस पास के गाँव और कस्बों और उनमें फैली हरियाली तो आपने देख ली। अगली कड़ी में देखियेगा  ब्रसल्स शहर के कुछ दृश्य !अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

8 comments:

  1. वाह, बहुत ही सुंदर चित्र

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया ललित जी !

      Delete
  2. AnonymousJune 09, 2014

    This article is genuinely a nice one it assists new net viewers, who are wishing for blogging.


    Look into my homepage ... minion rush on the computer ()

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. Shukriya sarahne ke liye Sunita ji !

      Delete
  4. ati sunder sir ji.itni khoobsurti ki bar bar dekhne ko mann kare .

    ReplyDelete
  5. amit aryaJuly 17, 2014

    Bahutt achhi pic. Bharat k logo ko sochne pr majboor karegi.

    ReplyDelete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails