Wednesday, June 24, 2015

लहराते खेत... उँघते जंगल : देखिए वियना का आकाशीय नज़ारा ! Aerial View : Vienna, Austria

आसमान की ऊँचाइयों से नीचे दिखते बादलों के झुंड, डिब्बानुमा शहर, हरे भरे खेत खलिहान, पल पल अपना रास्ता बदलती नदी, पतली सर्पीली सड़कें और उस पर रेंगती गाड़ियाँ देखना विमान यात्राओं में मेरा प्रिय शगल रहा है। पर ये सारी छवियाँ अक्सर मन मस्तिष्क में अंकित हो कर रह जाती हैं। उन्हें कैमरे में क़ैद करने का सिर्फ एक मौका होता है और वो तब जब विमान अपने गन्तव्य तक पहुँचने के पहले शहर के आस पास के इलाकों पर मँडरा रहा होता है।जब भी खिड़की के पास मुझे बैठने का मौका मिलता है मैं इसी मौके का बेसब्री से इंतजार करता हूँ।

विदेशो में तो ये आनंद दूना हो जाता है क्यूंकि वहाँ के खेत खलिहान और शहर ऊपर से ही इतनी रंग बिरंगी छटा प्रस्तुत करते हैं कि मन बँधा का बँधा रह जाता है। आपको याद तो होगा ना  टोक्यो के हरे भरे धान के खेतों का जाल और बेल्जियम की राजधानी ब्रसल्स का सुंदर सुव्यवस्थित शहर, जिसे मैंने ब्लॉग के इन पन्नों पर आपको पहले दिखाया था।। तो चलिए आज आपको दिखाते हैं पूर्वी यूरोपीय देश आस्ट्रिया की राजधानी वियना के आकाशीय नज़ारे


दरअसल अपनी यूरोप यात्रा के दौरान लंदन जाते वक़्त हमें वियना के हवाई अड्डे पर अपना विमान बदलना था। विमान को सुबह छः साढ़े छः बजे के लगभग पहुँचना था। सुबह एप्पल जूस का रसपान करने के बाद मेरी तंद्रा पाँच बजे ही भंग हो चुकी थी। विमान ने नीचे आना शुरु नहीं किया था पर इतना पता चल रहा था कि सूर्योदय हो चुका है। अगले आधे घंटे में ज्यों ज्यों हम नीचे आते गए खूबसूत दृश्यों का काफिला नज़रों के सामने से गुजरता गया। तो आइए उनमें से क़ैद कुछ लमहों को देखिए मेरे कैमरे की नज़र से ..


यूरोप में पवनचक्कियाँ आम हैं। हालैंड तो खैर मशहूर ही है अपनी पवनचक्कियों के लिए..पर बाकी देशों में भी इनका खासा इस्तेमाल है।



उठती गिरती ढलानों के बीच करीने से जुते खेत खलिहान अगर आकाश की ऊँचाइयों से देखे जाएँ तो वे कितना खूबसूरत अहसास जगाते हैं मन में.. और इन लहराते खेतों के बीच पीले पीले फूल से लदे पेड़ों का एक घना जंगल आ जाए तो लगता है मानो धरा से एक कविता सी फूट रही हो .


सूर्य की प्रथम किरणे इन उँघते जंगलों को जगा रही थीं। खेत पर पड़ती उनकी हल्की परछाई एक नई सुबह की दस्तक दे रही थी। 
कुछ ही देर में खेत खलिहानों को पीछे छोड़ता हमारा विमान अब वियना के आस पास के कस्बों के ऊपर से उड़ान भर रहा था।


यूरोप में अधिकतर कस्बों में मकानों के रंग का एक बँधा बंधाया नियम होता है। अब यहीं देखिए सफेद रंग की दीवारें और भूरी नारंगी छतें सूर्य की पहली रोशनी जा स्पर्श पाकर किस तरह खिल उठी हैं।


वियना हवाई अड्डे पर उतरते उतरते सूर्य अपनी पूरी रोशनी के साथ निकल आया था। बाहर का तापमान तब भी पन्द्रह डिग्री ही था। चार पाँच घंटे एयरपोर्ट पर बिताने के बाद भरी दुपहरी में हम फिर वियना से लंदन के लिए उड़ चले।



 दिन पूरी तरह निकल आया था। सो हरा रंग अब कुछ ज्यादा ही हरा हो गया था।


जुते और फसलों से लहलहाए ये हरे भूरे खेत पतली पतली पट्टियों के आकार में चारों ओर बिखरे पड़े थे। सहसा इनके बीच कोई पीले फूलों वाली पट्टी आती तो एकदम से उभर जाती।


विमान ने फिर ऊँचाई की ओर बढ़ना शुरु किया और खेत भी जंगलों में सिकुड़ते चले गए..फिर आल्पस की चोटियों से ऊपर निकलता हमारा विमान बादलों के झुंड में विलीन हो गया।


तो कैसे लगे आपको वियना के ऊपर से लिए गए ये आकाशीय नज़ारे..  ?

अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

42 comments:

  1. ये खेत तो हमारे गांगेय क्षेत्र से कहीं अलग नजारा प्रस्तुत करते हैं!
    सुन्दर।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ यहाँ की मशीनी जुताई इन्हें एक अलग ही खूबसूरती से भर देती है।

      Delete
  2. Manish Ji ram ram.bhut he sunder photo.

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा लगा ।

    ReplyDelete
  4. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (26-06-2015) को "यही छटा है जीवन की...पहली बरसात में" {चर्चा अंक - 2018} पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार !

      Delete
  5. खेत - almost like sea waves. Very nice. Thanks for sharing photos.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yeah u r correct they look like earthy waves :)

      Delete
  6. बहुत............बहुत सुंदर फोटो ......... धन्‍यवाद मनीष जी .........

    ReplyDelete
    Replies
    1. साथ बने रहने का शुक्रिया !

      Delete
  7. ब्लॉग बुलेटिन की १००० वीं बुलेटिन, एक ज़ीरो, ज़ीरो ऐण्ड ज़ीरो - १००० वीं बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक आभार !

      Delete
  8. Replies
    1. The landscapes were so beautiful that all I had to do was only trigger the button at the right time :)

      Delete
  9. बहुत बढ़िया पोस्ट खासतौर से चित्र बहुत अच्छे हैं वो भी तब जब कि चलते विमान से लिए गए हों

    ReplyDelete
    Replies
    1. मुझे तो बस इतना करना था कि सही समय पर शटर का बटन दबाना था :)

      Delete
  10. अत्यंत सुन्दर चित्र....धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपको चित्र पसंद आए जानकर प्रसन्नता हुई।

      Delete
  11. कमाल के दृश्य दिखाये आपने। ये छायाचित्र धरती के कम किसी अलग खूबसूरत दुनिया के ज़्यादा जान पड़ते हैं। सचमुच अजब गज़ब रूप लिए है हमारी दुनिया।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हम्म इसीलिए तो सुबह चार बजे भोर से इनकी प्रतीक्षा में बैठा था नम्रता । मैंने आस्ट्रिया की सुंदरता के बारे में पहले ही सुन रखा था। तुम्हें ये दृश्य मनमोहक लगे जानकर खुशी हुई।

      Delete
  12. खूबसूरत ! :)

    ReplyDelete
  13. Very nice pictures sir ji

    ReplyDelete
  14. मन हरिया दिया,,एकदम फ्रेश फ्रेश।
    आँखें और मन दोनों ही बाँध लें ये अलौकिक नज़ारे।
    कितनी कठिनता से आपने आँखें हटाई होंगी,हम समझ सकते हैं।
    आभार साँझा करने के लिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रंजना जी !

      Delete
  15. yogander,rajpotAugust 19, 2015

    Yor,gerat,

    ReplyDelete
  16. ख्वाबों के जैसी यात्रा ! खेत खलिहान ऐसे लग रहे हैं जैसे किसी चित्रकार ने चित्रकारी करी हो !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. सही मुझे भी ऐसा ही लगा था।

      Delete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails