Monday, July 18, 2016

वो शामें, वो मौसम, नदी का किनारा..वो चंचल हवा ...A drive along Niagara River !

बारिश का मौसम पूरे शबाब पर है। रुक रुक थम थम कर पानी की फुहारें तन मन में शीतलता का संचार कर रही हैं।। बरखा रुकती भी है तो ठंडी हवाओं के झोंके आ कर दिल को सहला जाते हैं। मन भी है कि उड़ चला है पुरानी यादों की तरफ़ और आँखों के सामने उभरने लगी है वो शाम जब आकाश में काले बादल धूप के साथ आँख मिचौनी का खेल खेल कर रहे थे नीचे इक नदी का नीला आँचल था जिसे हरे भरे पेड़ों ने अपनी बाहों में थाम रखा था। तो आइए उस मंज़र को सजीव करें आज के इस फोटो फीचर में.. 

गर्मी में ओंटोरियो की हरियाली देखते ही बनती है।

वो शाम कनाडा की थी. नियाग्रा से हमें दो दिन बाद ही टोरंटो के लिए निकलना था। मई महीने का आखिरी हफ्ता था।  शाम को जब अपना काम निबटाकर घूमने की फुर्सत मिली तो पौने सात बज रहे थे। पर बाहर दिन शाम को पास फटकने भी नहीं दे रहा था। हमारे होस्ट ने सुझाया कि चलिए आपको नियाग्रा नदी के साथ साथ एक लम्बी  ड्राइव पर ले चलें। आफिस से थक हार कर निकल रहे लोगों के लिए इससे अच्छा प्रस्ताव क्या होगा भला तो हम सहर्ष ही उनके साथ निकल पड़े।

ये है नियाग्रा नदी का रास्ता..

नियाग्रा नदी ज्यादा लंबी नदी नहीं है। इसकी कुल लंबाई साठ किमी से भी कम है। ये लेक एरी से निकलती है और दक्षिण से उत्तर की ओर बहती हुई लेक ओंटेरियो में जा मिलती है। इसके पश्चिमी तट पर कनाडा का ओंटेरियो  है और पूर्वी तट से सटा अमेरिका का न्यूयार्क राज्य।

वो शामें, वो मौसम, नदी का किनारा..वो चंचल हवा


हमारी कार खाली रास्ते पर सरपट दौड़ रही थी। सड़क के दोनों ओर हरे भरे पेड़ों की कतारों के बीच कभी कभी रिहाइशी इलाका आ जाता है। कनाडा तो वैसे भी अमीर देश है पर जैसे घर नजर आ रहे थे लग रहा था कि इधर बसने वाले कुछ ज्यादा ही रईस हैं। घर के सामने गैरज वाला हिस्सा हमारी तरफ़ के छोटे मोटे मकान के बराबर था। चौड़ाई इतनी की दो गाड़ियाँ अगल बगल आराम से आ जाएँ। सड़क पर वर्जिश करते हुए  या अपने भारी भरकम  कुत्तों को टहलाते हुए  इक्के दुक्के लोग दिख रहे थे ।

प्रकृति की देखो माया..कहीं धूप कहीं छाया

नदी की तरफ़ काले घने बादलों ने अपना डेरा डाल रखा था। उनसे छनती हुई रोशनी जब अमेरिका के हिस्से में पड़ने वाले वृक्षों पर पड़ती तो वो चमक उठते। कुछ दूर चलने के बाद तो क्या बादल और क्या नदी का पानी दोनों ऐसे घुले मिले कि उनका  रंग स्याह नीला सा हो गया।

बरखा आई नहीं पर बादल ने अपना दिल नदी को यूँ दिया कि बस उसके रंग में ही रँग गए
अब हम नदी के मुहाने यानि लेक एरी की तरफ़ बढ़ रहे थे। नदी के दूसरी ओर का दृश्य अब बदल गया था। हरे भरे पेड़ के बीच छोटे छोटे घरों की जगह बड़े शहर की गगनचुंबी इमारतें दिखने लगी थीं। ये शहर था बफेलो। वही जिसके बारे में हम हाईस्कूल की भूगोल की कक्षाओं में पढ़ा करते थे।

बफेलो की गगनचुंबी इमारतें
हरी मखमली घास, नीली नदी के पीछे से उठती इमारतें एक खूबसूरत परिदृश्य पेश कर रही थीं। मौसम अब कुछ साफ़ हो चला था। एक समय अमेरिका का औद्योगिक केंद्र रहा बफेलो अब अपने शिक्षा के उपक्रमों के लिए जाना जाता है। आर्थिक मंदी की मार इस शहर पर भी पड़ी है पर फिर भी ये न्यूयार्क राज्य के दूसरे सबसे बड़ी आबादी वाले शहर में आता है। पहले नंबर पर  तो न्यूयार्क है ही।



नीचे चित्र में जो मध्य में शानदार इमारत नज़र आ रही है वो है बफेलो का सिटी हॉल। जानते हैं, एक सौ बीस मीटर ऊँची इस इमारत का निर्माण हाल फिलहाल का नहीं बल्कि 1931 का है। आज यहाँ पर शहर की नगरपालिका का मुख्य कार्यालय है। इस इमारत के दायीं ओर शहर की सबसे ऊँची अट्टालिका सेनेका टावर है।

बफेलो का सिटी हॉल
कनाडा की तरफ़ से ही इस अमेरिकी शहर के नजारों का लुत्फ़ उठाने के बाद हम कनाडा की हरी भरी वदियों के बीच  चहलकदमी करने को निकल गए। नदी के किनारे हवा में ठंडक जरूर थी पर उससे दिन भर की हमारी थकान जाती रही । शायद इन चित्रों को देख आप के मन में भी सुकून का अहसास तारी हो गया होगा।

इन रेशमी राहों में इक राह तो वो होगी..
तुम तक जो पहुंचती है इस मोड़ से जाती है
अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

13 comments:

  1. बहुत बढ़िया हरियाली।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपने तो अपनी अमेरिका यात्रा मे ऐसी हरियाली देखी ही होगी !

      Delete
    2. हाँ इस लेख को पढ़कर मन एक बार फिर से जाने को मचल रहा था। वहां तो हर जगह ऐसी लगती है जैसे कोई घूमने के लिए बनाया गया स्पॉट हो।

      Delete
  2. You inspire us with every writing..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Pratima ..Nice to know :)

      Delete
  3. बहुत खूबसूरत जगह है। देखते ही बनते हैं

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ बिल्कुल !

      Delete
  4. Awesome views, buddy...it looks like a serene place!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes the whole route is absolute beautiful especially in summers.

      Delete
  5. हरियाली और रास्ता ......... सफ़र को ख़ुशनुमा बनादे ऐसे है दृश्य ........

    मानचित्र देख कर लग रहा है की Niagara falls ज्यादा दूर नहीं होगा ..... Niagara falls की यात्रा ब्लॉग का इंतजार रहेगा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Niagara Falls पर विस्तारपूर्वक पहले कई पोस्टस लिख चुका हूँ। शायद आपने देखा ना हो।

      Delete

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails