सोमवार, 28 अप्रैल 2008

मुसाफ़िर हूँ यारों : मेरा नया यात्रा चिट्ठा !

जिंदगी एक यात्रा है और हम सभी इसके मुसाफ़िर हैं। पर कभी-कभी इस रोजमर्रा की राह से अलग हटने को जी चाहता है। भटकने को जी चाहता है और हम निकल पड़ते हैं एक अलग से सफ़र पर अलग सी दुनिया में। जब जब मैं किसी नई जगह के लिए निकलता हूँ मुझमें अंदर तक एक नई उर्जा समा जाती है। मुझे आज तक कुल मिलाकर अपना हर सफ़र, हर जगह कुछ विशिष्ट सी लगी है। इसी विशिष्टता को मैं अपने यात्रा वृत्तांतों में शामिल करने की कोशिश करता हूँ।

खैर सवाल है कि ये नया चिट्ठा क्यूँ ? अपनी यायावरी के किस्से एक शाम मेरे नाम पर संगीत और साहित्य के साथ परोसता ही आया हूँ।

एक चिट्ठे को सँभालने के लिए ही फुर्सत नहीं मिलती तो ये दूसरा क्या खाक सँभलेगा ?
पहले प्रश्न का जवाब तो ये है कि पत्रकारों द्वारा चिट्ठाकारिता पर लिखे शुरुआती लेखों पर ये शिकायत भी पढ़ी कि हिंदी में कोई प्रतिबद्ध यात्रा चिट्ठा यानि Travel Blog नहीं है। हालांकि तब तक मैंने ये देखा था कि हमारे साथी चिट्ठाकार नियमित रूप से तो नहीं पर बीच-बीच में अपनी यात्राओं के विवरण देते ही रहे हैं। इधर मेरी नज़र में कुछ चिट्ठे आए हैं जिन्होंने यात्रा को अपने चिट्ठे की मुख्य थीम बनाया है। हालांकि वे अब तक किसी एग्रगेटर से नहीं जुड़े हैं। इस चिट्ठे के माध्यम से मेरी कोशिश रहेगी कि हिंदी में यात्रा विवरण लिखने वालों को नियमित चर्चा यहाँ पर हो। जो लोग चिट्ठाकार नहीं हैं पर अपनी यात्राओं के बारे में रोचक तरीके से हिंदी में लिख सकते हैं उनके लेख भी मुझे इस चिट्ठे पर शामिल करने में खुशी होगी।

साथ ही साथ ही अपने यात्रा वृत्तातों को संकलित रूप में मैं इस चिट्ठे पर डालूँगा जिनसे उन लोगों की शिकायत दूर होगी जो हिस्सों में पढ़ने के बजाए एक बार ही में पूरा आलेख पढ़ना चाहते हैं।

रही सँभालने की बात तो विषय आधारित चिट्ठों की प्रकृति ऍसी है कि वो आम चिट्ठों जैसे सक्रिय नहीं रह सकते। फिर भी ये प्रयास रहेगा कि बीच बीच में यात्रा से जुड़ी उपयोगी और दिलचस्प जानकारियाँ आप तक पहुँचाता रहूँ। आपके सुझाव और शुभकामनाएँ अपेक्षित हैं।

13 टिप्‍पणियां:

  1. बढिया प्रयास, नये यात्रा विवरण को इंतजार रहेगा!

    शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  2. मनीष दिन में चैट हो रही थी तो अंदाज़ा नहीं था कि आज ही तुम लॉन्‍च कर दोगे । बधाई हो । हम तुम्‍हारे सहयात्री हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  3. मनीष भाई,
    एक्दम मस्त आइडीया है "यात्रा विवरण " के लिये मैँ भी एक पोस्ट आपको भेजना चाहती हूँ
    बताइये, कैसे भेजूँ ?
    स्नेह,
    - लावण्या

    जवाब देंहटाएं
  4. नितिन केरल प्रवास का यात्रा विवरण एक शाम मेरे नाम पर चल रहा है। यहाँ पूरा हो जाने पर इकठ्ठा पेश किया जाएगा.

    यूनुस शुक्रिया !

    जवाब देंहटाएं
  5. लावण्या जी आपको मेल कर दिया है।
    मैं इस चिट्ठे पर फिलहाल साप्ताहिक यात्रा विवरणों की समीक्षात्मक चर्चा करने की सोच रहा हूँ जिसमें तमाम हिंदी चिट्ठाकार जो बीच-बीच में अपने यात्रा वृत्तांत लिखते हैं की अच्छी पोस्टस का जिक्र लिंक के साथ हो ताकि चिट्ठाजगत के बाहर का पाठक भी ऍसी पोस्ट्स तक पहुँच सके।

    आप अपना यात्रा विवरण अपने चिट्ठे पर डालें और हो सके तो उसकी लिंक मुझे मेल कर दें।

    जवाब देंहटाएं
  6. इस नवीन सत्प्रयास के लिए हार्दिक शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह ! ये तो बहुत बढ़िया शुरुआत है।
    मनीष जी इस नए चिट्ठे के लिए आपको बधाई और शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  8. कैसा अजब संयोग है कि मैंने भी अभी-अभी पत्रिका के एक अंक पर काम पूरा किया है जो यात्रा-संस्मरण,यात्रा-डायरी,यात्रा-रिपोर्ताज़,यात्रा निबंध और यात्रा कविताओं पर केन्द्रित है . पांच सौ से ज्यादा पृष्ठों का यह संकलन पन्द्रह-बीस दिन में उपलब्ध होगा .

    जवाब देंहटाएं
  9. मनीष जी मेरी भी कई यात्राएं ब्लॉग पे जाने का इंतज़ार कर रही हैं... इस नेक काम के लिए धन्यवाद... कुछ लिखने पर लिंक भेजता हूँ.

    जवाब देंहटाएं
  10. बेनामीअप्रैल 28, 2008

    जरूर डालियेगा बस एक बात है ही विनोद दुआ की तरह रस्ते के ढाबो या कुछ ऐसे खाने या उन चीजों के बारे मे भी लिखे जो आपने ख़ुद अनुभव किए हो ओर आपको लगता है उन्हें भी तव्वाजो देने की जरुरत है जैसे कोई ऐसा स्थल जो शायद बहुत प्रसिद्ध ना हो पर आपने उसमे बहुत सुन्दरता पाई हो.......

    जवाब देंहटाएं
  11. अनुराग आपने सही कहा ये बातें भी उतनी ही महत्त्वपूर्ण हैं और इनसे लेखन में एक personal touch आता है।। मैं वही लिखने का प्रयास भी करता हूँ जो मेरे अनुभव रहते हैं। खाने पीने की बात से याद आया अभी कोचीन की यात्रा में अप्पम जो मैंने पहली बार देखा था का विस्तृत विवरण था।

    word verification अमूमन मैं लगाता नहीं। यहाँ डिफॉल्ट में था इसलिए ध्यान नहीं गया अब हटा दिया है।

    जवाब देंहटाएं
  12. ममता जी, अभिषेक जी और अफ़लू भाई शुभकामनाओ का शुक्रिया

    प्रियंकर जी आपने एक बार मुझसे अपनी पत्रिका के लिए यात्रा वृत्तांत लेने की इच्छा ज़ाहिर की थी पर उसके बाद शायद आप भूल गए। आपके यात्रा विशेषांक के लिए अग्रिम शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails