सोमवार, 4 जुलाई 2011

चित्र पहेली 18 : क्या आपने कभी लगाए हैं सड़क पर 180 डिग्री के इतने चक्कर?

गर्मी की छुट्टियों में पहाड़ों पर जाने की चाहत किसे नहीं होती?  शहर की चिल्ल पों से दूर पहाड़ों का शांत स्निग्ध हरा भरा वातावरण किसी भी प्रकृतिप्रेमी को अपनी ओर हमेशा से खींचता रहा है। पर पहाड़ों पर जाने से कुछ लोग हिचकिचाते भी हैं, खासकर वो जिन्हें घुमावदार रास्तों में सिर दर्द और वमन की शिकायत हो। पर अगर पहाड़ों का आनंद लेना है तो इसे बर्दाश्त करने के अलावा कोई चारा भी नहीं है। वैसे कई पर्वतीय स्थलों पर घुमावदार रास्तों से ज्यादा तकलीफ़ नहीं होती क्यूँकि वहाँ घुमावों का का टर्निंग रेडियस ज्यादा होता है। पर कभी कभी जब सड़क एक सौ अस्सी डिग्री का घुमाव लेती हो तो चलाने वालों और सफ़र करने वालों के लिए मुश्किलें बढ़ जाती है।

मुझे याद आता है देहरादून से मसूरी जाते वक़्त दो तीन जगह ऐसे ही घुमाव मिलते थे ।पर ज़रा सोचिए अगर एकदम से ऊँचाई प्राप्त करने के लिए आपको एक सौ अस्सी डिग्री के इतने सारे चक्कर लगाने पड़े तो क्या आपकी एवोमीन काम करेगी?। आज की चित्र पहेली आपको ऐसी ही एक सड़क का चित्र दिखा रही है जो पाँच सौ मीटर की ऊँचाई पाप्त करने के लिए कई बार घूमती है। आज की इस चित्र पहेली नें आपको बताना है कि ये जगह किस नाम से मशहूर है और नीचे बहती नदी का क्या नाम है ?

(इस चित्र के छायाकार का नाम उत्तर के साथ बताया जाएगा।)
जिन्होंने इस रास्ते से सफ़र किया होगा वो तो सहजता से ये बता पाएँगे। आपके जवाब माडरेशन में रखे जाएँगे। अगली पोस्ट में आपके उत्तर के साथ ऍसी ही कुछ दिलचस्प सड़कों की बात करेंगे। तब तक आपको छोड़ते हैं इस चित्र पहेली के चक्करों में...

पुनःश्च  : सही जवाब दिया गजेन्द्र सिंह जी ने। सबसे पहले और प्रश्न के दोनों भागों का एकदम सही उत्तर बताने के लिए आपको हार्दिक बधाई़ !

10 टिप्‍पणियां:

  1. चक्कर में डाल दिया आपने...जरूर कहीं लेह लद्दाख के आस पास का चित्र होगा...अँधेरे में तीर मारा है सही लगने की गारंटी नहीं है...

    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  2. नीरज भाई व सौरभ भारत में इस तरह के दृश्य आप उत्तरी सिक्किम, लेह लद्दाख, लाहौल स्पीती, उत्तरांचल व अरुणाचल के तवांग क्षेत्र जैसे पर्वतीय इलाकों में देख पाएँगे पर सड़कों का इतना चक्कर सिर्फ एक जगह ही है। आप का अनुमान किस हद तक सही है उसके लिए आप अगली पोस्ट का इंतज़ार कीजिए

    प्रेमलता जी गंगोत्री सही जवाब नहीं है। अनुमान लगाने के लिए धन्यवाद !

    जवाब देंहटाएं
  3. लद्दाख ?. मेरे एक दोस्त ने एक बार बताया था कि कहीं लेह-मनाली हाइवे पर है कुछ ऐसा. शायद वही हो.

    जवाब देंहटाएं
  4. जब रोहतांग पार करके उस तरफ लाहौल में उतरते हैं तो बिल्कुल ऐसा ही नजारा होता है। वैसे मैं कभी उधर गया नहीं हूं, सिर्फ अंदाजा है।

    जवाब देंहटाएं
  5. मुझे तो चित्र देखते ही चक्कर आने लग गए, ज़रा बताएं कि कौन सी जगह है |

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails