सोमवार, 11 अगस्त 2014

आइए देखें झारखंड की मनमोहक बरसाती छटा... Lovely Jharkhand in rainy season

सावन तो आपने आख़िरी चरण में है पर झारखंड में मूसलाधार बारिश का दौर पिछले हफ्ते से शुरु हुआ है। झारखंड तो वैसे ही जंगलों से परिपूर्ण है पर एक बार बरसाती घटाओ का साया इसके ऊपर हो जाए फिर तो इसकी हरियाली देखते ही बनती है। पिछले हफ्ते दिल्ली से राँची आते वक़्त विमान से झारखंड की हरी भरी धरती देखने का सुख प्राप्त हुआ तो मैंने सोचा क्यूँ ना प्रकृति की इस अद्भुत झांकी को आपके साथ साझा करूँ

किसी और मौसम में झारखंड की पहाड़ी नदियाँ के बगल से अगर गुजरे तो सूखी चट्टानों और बालू के ढेर में महीन सी बहती धारा ही दिखेगी पर बरसात में तो इन नदियों की मस्तानी चाल देखते ही बनती है। पठारी इलाका होने की वजह से नदी के रास्ते आने वाली ढलानों पर ये छोटे छोटे झरनों के माध्यम से उफन उठती हैं।

वैसे नदियाँ क्या  खेत, जंगल और उनके बीच बसे खपरैल घरों वाले छोटे छोटे गाँव सब इस मूसलाधार बारिश  में नहा उठे हैं।


सोचिए तो इस छोटी सी पहाड़ी की चोटी पर बैठ कर रूई के फाहों समान इन बादलों के बीच सर्वत्र फैली इस हरियाली को जज़्ब करना कितना सुकूनदेह होगा ?


झार का मतलब ही होता है वन... इन घने जंगलों का गहरा हरा रंग और बरसात में धान का धानी एक ऐसा रंगों का समायोजन प्रस्तुत करते हैं कि देख के आँखें तृप्त हो जाती हैं।


छोटी छोटी पहाड़ियों की ढलानों पर उगे इन जंगलों के बीच जहाँ भी समतल भूमि मिलती है किसान उसी में अपना गुजारा करते हैं।


ये है राँची की बाहरी रिंग रोड.. सोच रहा हूँ अगली छुट्टी में इसका भी एक चक्कर मार लूँ। क्या ख्याल है आपका?

वैसे ऊपर से मुझे ये समझ नहीं आया कि इतनी समरूपता से लगाए गए ये पेड़ कौन से हैं ?


कुछ जुते खेत,  हरी भरी धरती और उसमें समाया एक छोटा सा गाँव..


धान के खेतों को कैमरे में क़ैद करना मेरा प्रिय शगल रहा है। बुआई से लेकर कटाई तक ये खेत इतने अलग अलग रंगों में सामने आते हैं कि किसी भी प्रकृति प्रेमी का मन हर्षित हो उठे। अब देखिए इस साल धान की बुआई अभी शुरु ही ही हुई है। पानी भरे इन खेतों में पौधों की कोपलें बस फूटना ही चाह रही हैं। पर पानी से भरे ये छोटे छोटे टेढ़े मेढ़े खेत अपने इस बेढ़ब रूप में भी वैसे ही लग रहे हैं जैसे गाँव की कोई अल्हड़ सुंदरी..


अगर आपको मेरे साथ सफ़र करना पसंद है तो फेसबुक पर मुसाफ़िर हूँ यारों के ब्लॉग पेज पर अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराना ना भूलें। मेरे यात्रा वृत्तांतों से जुड़े स्थानों से संबंधित जानकारी या सवाल आप वहाँ रख सकते हैं।

26 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  2. वाकई बरसात मे पृथ्वी खिल उठती है..

    जवाब देंहटाएं
  3. Great, we need more posts like that to encourage people to visit Jharkhand.

    जवाब देंहटाएं
  4. beautiful...i found best picnic spots in jharkhand only...pure serene and raw...untouched

    जवाब देंहटाएं
  5. thanks for sharing your experience . it seems beautiful place to visit .
    Kashmir Tour Packages

    जवाब देंहटाएं
  6. Thanks for sharing such a beautiful moment of jharkhand.

    जवाब देंहटाएं
  7. आप सब को बरसाती झारखंड की ये झलकियाँ पसंद आई जान कर प्रसन्नता हुई।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत अच्छा लिखा है आपने।

    जवाब देंहटाएं
  9. Sach me JHARKHAND prakriti ki god me basa alokik chhata liye manoram drishyo se saja bada hi sukhad sthal hai......aur aapne badi hi sanzidgi se iski prakritik chhata ka awalokan kar yaha varnit kiya hai....kotishah dhanyawaad

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिक्कत यही है कि यहाँ सुरक्षा का सवाल इतना विकट है कि यहाँ के लोग भी इन जंगलों की थाह पाने एकी इच्छा रखते हुए भी वहाँ जाने का साहस नहीं कर पाते।

      हटाएं
  10. Prakritike wa unke awayayo ke saath chhedchhad hi asuraksha ki sthiti utpann karti hai .......

    जवाब देंहटाएं
  11. Beautifully described and nice pictures from air

    जवाब देंहटाएं