गुरुवार, 16 जुलाई 2009

चित्र पहेली 5 का जवाब : आइए जानें इस त्रिभुजाकार चोटी के बारे में ?

मुसाफिर हूँ यारों पर पर कुछ दिनों पहले हिमालय की अन्नपूर्णा पर्वत श्रृंखला के बीच पोखरा, नेपाल के पास मछली के आकार की पूँछ वाली चोटी को देखने का अनुभव मैंने
आपसे साझा किया था। पर आज जिस पहाड़ी चोटी को आप को पहचानना है वो भारत में अवस्थित है पर इसका आकार प्रकार भी अचंभित कर देने वाला है।

इस चोटी की खासियत ये है कि इसका आकार अपने आधार से शीर्ष तक पहुँचते पहुँचते समानुपातिक ढ़ंग से इस तरह घटता है कि ऊँचाई से ये पहाड़ी एक त्रिभुज की तरह दिखती है। मानसून के दौर में इस चोटी के आस पास की छटा देखने वाली होती है। तैरते बादलों के बीच तब ये चोटी ढक सी जाती है।


(चित्र साभार इंटरनेट, छायाकार का नाम पता नहीं।)
तो आपको इस चित्र को देख कर आज बताना है इस चोटी का नाम क्या है और ये कहाँ अवस्थित है। हमेशा की तरह सही जवाब तक पहुँचने के लिए संकेत हाजिर हैं।



संकेत 1 : ये चोटी भारत के पश्चिमी घाट में है और इसकी ऊँचाई १००० मीटर से थोड़ी कम है।

कलावंतिन दुर्ग पनवेल से उत्तर पूर्व दिशा में अवस्थित है और इसकी ऊँचाई तकरीबन २३०० फीट है। ये चोटी प्रबलगढ़ दुर्ग के ठीक बगल की चोटी है और ऊपर का चित्र प्रबलगढ़ के ऊपर से खड़े होकर लिया गया है। इस दुर्ग पर चढ़ने ले लिए बकाएदा सीढ़ियाँ बनी हैं। इसकी चोटी का क्षेत्रफल इतना कम है कि उस पर एक वक्त में मात्र तीस से चालिस लोग खड़े हो सकते हैं। ऊपर तक जाने के लिए सीढ़ियाँ हैं पर चोटी के पास की सीढ़ियाँ काफी फिसलन भरी हैं। अपने इस अनूठे आकार के लिए इसका प्रयोग निगरानी चौकी के रूप में किया जाता रहा।
संकेत 2 : हिंदी चिट्ठाजगत के एक चिर परिचित कवि / शायर का घर इस चोटी से तकरीबन घंटे भर की दूरी पर है।:)

जी हाँ हमारे चिर परिचित शायर नीरज गोस्वामी जी खपोली में रहते हैं और यहाँ से पनवेल का रास्ता करीब आधे घंटे में निबटाया जा सकता है। कलावंतिन दुर्ग पनवेल से १७ किमी दूर पर ठाकुरवाड़ी गाँव के समीप है।

संकेत 3: इस चोटी का नाम संगीत के एक प्रसिद्ध घराने से मिलता जुलता है।
कलावंतिन दुर्ग (Kalavantin Durg) से मिलता जुलते नाम का कलावंत संगीत घराना है। वैसे इस दुर्ग का कहीं कहीं उल्लेख कलावती दुर्ग (Kalavati Durg) या कलावंतिनिचा बुरुज (Kalavantinicha Buruz) के रूप में भी किया जाता है।



तो हैं ना मज़ेदार संकेत ! वैसे इस बार पिछली बार से विपरीत एक से ज्यादा सही जवाब आने की आशा है क्योंकि मुझे यक़ीन है कि आप में से कुछ ने इस चोटी को देखा जरूर होगा। मेरे ख्याल से इन संकेतों की सहायता से उत्तर तक शीघ्र ही पहुँच जाएँगे तो देर किस बात की जल्दी लिखिए अपना जवाब। आपके उत्तर हमेशा की तरह माडरेशन में रखे जाएँगे। सही जवाब 16 जुलाई की रात इसी पोस्ट में बताए जाएँगे।

आइए देखें किसने दिया सही जवाब:.

इस बार कुल मिलाकार तीन लोगों ने सही जवाब ढूँढ निकाला है। पर एक बार फिर सबसे पहले सही जवाब अभिषेक ओझा ने दिया। हालांकि उनसे ठीक पहले राज भाटिया जी जवाब के बेहद करीब पहुँच चुके थे। भाटिया जी, प्रबलगढ़ और कलावंतिन दुर्ग अगल बगल की दो अलग अलग चोटियाँ हैं और जैसा कि मैंने बताया कि प्रस्तुत चित्र प्रबलगढ़ दुर्ग के ऊपर से लिया गया है।। वैसे राज भाटिया जी और समीर भाई देर आए पर दुरुस्त आए। आप तीनों को सही उत्तर तक पहुँचने के लिए हार्दिक बधाई।

साथ ही शुक्रिया उन सभी लोगों का जिन्होंने इस चित्र को देख कर अपने अनुमान लगाए और विचार प्रकट किए।

26 टिप्‍पणियां:

  1. इसे देखा है परन्तु नाम मालूम नहीं है.

    जवाब देंहटाएं
  2. sundar chitr manish ji,
    hame to saubhagya hi nahi mila ki aise manoram drishyon ko dekhe

    ye to badhiya baat hai ki aap logo ke vajah se ham aise bihangam chitr dekh pate hai..

    bahut bahut badhayi aapko!!

    जवाब देंहटाएं
  3. चोटी तो शानदार है.. पर कहाँ है ये आईडिया नहीं :(

    जवाब देंहटाएं
  4. सुब्रमनियन जी नाम तक ना पहुँच पाए तो जगह का अंदाज लगा ही सकते हैं गर आपने इसे देखा है।

    संगीता जी क्या इस नाम से मिलता जुलता कोई संगीत घराना हो सकता है :) ?

    जवाब देंहटाएं
  5. यह मध्य-प्रदेश में है।

    जवाब देंहटाएं
  6. अभी बताते है आप को इस का जबाब अगर मिला तो ?

    जवाब देंहटाएं
  7. Prabalgad Fort Maharashtra यही है ना,
    बाबा जबाब दे तो दिया दिख नही रहा??

    जवाब देंहटाएं
  8. कलावातीं दुर्ग.
    पनवेल और प्रबलगढ़ के पास है और बात तो नीरज जी की हो रही है खोपोली से ज्यादा दूर नहीं है.

    जवाब देंहटाएं
  9. लगता है दार्जलिंग में देखा है माउन्टेन्रिंग इन्सटियूट के सामने. :)

    जवाब देंहटाएं
  10. समीर भाई ...मजेदार जवाब! काश पश्चिमी घाटों को हिमालय पर्वत श्रृंखला से जोड़ने की कोई जुगत होती ...

    जवाब देंहटाएं
  11. Absolutely no idea but specially liked the flowers at the bottom of the peak. The peak itself is wonderful!

    जवाब देंहटाएं
  12. Kalavantin Durg कलाबंती दुर्ग भी इसे कहते है

    जवाब देंहटाएं
  13. http://www.indiamike.com/photopost/showphoto.php/photo/31532/date/1243836248
    यह लो लिंक , लेकिनसली फ़ोटो जो आप ने दी है उस का लिंक भी है

    जवाब देंहटाएं
  14. Kalavantin durg is a adjoining hill (pinnacle) to Prabalgad.

    जवाब देंहटाएं
  15. ये शायर नीरज गोस्वामी जी से एक घंटे की दूरी पर है जी. :)

    जवाब देंहटाएं
  16. लगता है हमारे ही आस पास कहीं है! :)

    जवाब देंहटाएं
  17. जब जवाब आएगा नाम देख लूंगी .. अभी तो मुझे अच्‍छी लगी .. सो अपने डेस्‍कटाप पर लगा लिया।

    जवाब देंहटाएं
  18. No idea at all. Western ghats... hmm.. I would be interested to know. Looks pretty interesting.

    जवाब देंहटाएं
  19. वैसे समीर जी की बात सही है ठीक ऐसी ही एक छोटी दार्जिलिंग में माउन्टेन्रिंग इन्सटियूट के सामने है तो .

    जवाब देंहटाएं
  20. मैं भी वहाँ जा चुका हूँ अभिषेक पर उसका उपरी सिरा ऍसा नहीं है।

    जवाब देंहटाएं
  21. दो दो लोग दार्जलिंग बता रहे हैं और आप सिरा पकड़े बैठे हैं..पहाड़ तो पहाड़ है, सिरा घिस भी सकता है...हा हा!! मगर पश्चिमी घाट-हाँ, वो जरुर मिसिंग है. :)

    जवाब देंहटाएं
  22. shukriya! jaankaaree aur dene kaa tarika dono umda hai! :)

    जवाब देंहटाएं

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails